Wednesday, December 31, 2014

FLOURINATED WATER IS KILLER. STOP TOOTHPASTE WITH FLOURIDE

http://themindunleashed.org/wp-content/uploads/2014/12/youll-never-guesss.jpgI would like you all to read this trembling story and decide if you want to trust Doctors and Govt officials pushing for Flourinated water,toothpaste.
Story starts with a Farm House of Wayne and Cathy Justus ,raising  horses on their farm without trouble untill 1985, water fluoridation was introduced. He observed that Horses did not drink flourinated water in cold ,instead ate Ice to get water but in summer ,they  had to drink poisionous flourinated water.Horses were so smart that they started using hoops to dig hole and istead drink dirty water from ground after rains but avoided flourinated water.


Quarter_Horse(REFON)-cleaned“Horses on average… will drink 10-12 gallons a day. A lactating mare can actually double that amount. Ironic is the horses that we had get the sickest the quickest were the mares that were lactating,” Cathy says.
The speculation here is very much alive. It’s one thing if you’re skeptical about chemical additives in drinking water, but it’s a whole different story when animals try to avoid it completely. However, this case is not only fueled by speculation, but scientific data.
Horses were found to have following symptoms of exposure to flouride-
  • crooked legs
  • fluorosis
  • hoof deformities
  • reproductive issues
  • hyperostosis and enostosis
  • reduced bone resorption
The foregoing clinical and morphological observations, together with the bone fluoride analyses, establish the diagnosis of chronic fluoride intoxication of horses in this study causes by consumption of artificially fluoridated drinking water.” (Lennart P Krook in a 2006 publication)
It had been confirmed. Fluoridated water killed Cathy and Wayne Justus’ 6 horses and possibly their 4 dogs. Not only did they lose their beloved animals, but each horse was worth around $500,000, making it a $3 million loss.
The dangers of fluoride are not a mystery, nor a conspiracy.The people of Pagosa Springs are a prime example of what happens when a community is educated and decides to join together and make a change. Unfortunately, it took the deaths of animals for it to be a valid issue in the eyes of many, but nonetheless, they beat it.


Sources:
fluoridesearch.org
fluoridealert.org
youtube.com

SHOCKING DANGER OF FLOURIDE MIXED WATER

http://themindunleashed.org/wp-content/uploads/2014/02/fluoride1.jpgIf you are using flouride in toothpaste ,STOP NOW. Although it is known that fluoride is toxic. In fact, it is still allowed and Dentist recomd to use in toothpaste. You need to knoiw that flouride ingestion in toothpaste is number one reason for call to poison center in AMERICA [2] [3] .Long-term ingestion is harmful to the brain, digestive system, heart, bones,tooth enamel. [4] [5] [6]

GET JOLT OF ELECTRICITY WHEN YOU READ HERE-

1. SKELETAL FLOUROSIS-

Happens after ingestion of flouride. Once ingested, it goes to Blood system to bone where it combines with calcium and produces calcium deficiency because  liver is unable to process fluoride.
nown as skeletal fluorosis. The risk is known for decades [7] [8] [9] The best way to protect yourself is to avoid fluoride. Chinese authorities established a link between reductions in fluoride exposure and the incidence of fluorosis. [10]

2. Arthritis

 [11] Degenerative osteoarthritis of back, knees all are linked. [12] [13]

3. Thyroid Toxicity

Fluoride is toxic to thyroid cells; it inhibits function and causes cell death. [14] For decades, fluoride was used to reduce thyroid function in individuals suffering from an overactive thyroid. [15] RANGE OF FLOURIDE ADDED IN WATER SYSTEM IS CLOSE TO WHAT WAS USED FOR CONTROLLING EXTRA THYROID FUNCTION[16]

4. Pineal Gland Calcification

Pineal gland regulates body rhythms and wake-sleep cycles; two extremely important functions. Fluoride is especially toxic to the pineal gland, where it accumulates and calcifies the gland[17]

5. Early Puberty/InFertility 

Research states that Girls reaching to puberty earlier where flouride is more found or mixed in water. [18] It damagessexual function  to create EARLY HYPOGONADISM IN MALES ALSO.As soon as flouride is>3ppm in drinking water-you get fertility problem.[19][20] .It is researched in animal also20.

6. Damages Kidney

Fluoride is toxic to the kidneys [22] [23] According to Chinese researchers, a fluoride level of 2 mg/L is all it takes to cause renal damage in children. [24] While water fluoridation levels are often much lower than this, the fluoride MUST STOP IN toothpaste and other sources.

7. DAMAGE TO HEART

Flouride caused cardiovascular inflammation and atherosclerosis ,EARLY HEART ATTACK. [25] [26]

8. Memory issues-

It impacts children's neurological system. [27] and responsible for low IQ compared to those who do not exposed. [28]

HOW TO REDUCE Fluoride

-STOP TOOTHPASTE WITH FLOURIDE.
-USE REVERSE OSMOSIS WATER PURIFICATION SYSTEM OR BOTTLE WATER.
Link here-dangers of fluoride?

Source/Credits of this article: Dr. Edward F. Group III, DC, ND, DACBN, DCBCN, DABFM of the Global Healing Center where this article was originally featured.
References:
Puciennik-Stronias M, Zarzycka B, Bo?tacz-Rzepkowska E. The effects of topical fluoridation of enamel on the growth of cariogenic bacteria contained in the dental plaque. Med Dosw Mikrobiol. 2013;65(2):129-32.
Shulman JD, Wells LM. Acute fluoride toxicity from ingesting home-use dental products in children, birth to 6 years of age. J Public Health Dent. 1997 Summer;57(3):150-8.
Whitford GM. Acute toxicity of ingested fluoride. Monogr Oral Sci. 2011;22:66-80. doi: 10.1159/000325146. Epub 2011 Jun 23.
C. J. Spak, S. Sjöstedt, L. Eleborg, B. Veress, L. Perbeck, and J. Ekstrand. Tissue response of gastric mucosa after ingestion of fluoride. BMJ. 1989 June 24; 298(6689): 1686–1687.
Sauerheber R. Physiologic conditions affect toxicity of ingested industrial fluoride. J Environ Public Health. 2013;2013:439490. doi: 10.1155/2013/439490. Epub 2013 Jun 6.
Perumal E, Paul V, Govindarajan V, Panneerselvam L. A brief review on experimental fluorosis. Toxicol Lett. 2013 Nov 25;223(2):236-51. doi: 10.1016/j.toxlet.2013.09.005. Epub 2013 Sep 17.
Czerwinski E, Nowak J, Dabrowska D, Skolarczyk A, Kita B, Ksiezyk M. Bone and joint pathology in fluoride-exposed workers. Arch Environ Health. 1988 Sep-Oct;43(5):340-3.
Chachra D, Limeback H, Willett TL, Grynpas MD. The long-term effects of water fluoridation on the human skeleton. J Dent Res. 2010 Nov;89(11):1219-23. doi: 10.1177/0022034510376070. Epub 2010 Sep 21.
Paiste M, Levine M, Bono JV. Total knee arthroplasty in a patient with skeletal fluorosis. Orthopedics. 2012 Nov;35(11):e1664-7. doi: 10.3928/01477447-20121023-29.
Chen H, Yan M, Yang X, Chen Z, Wang G, Schmidt-Vogt D, Xu Y, Xu J. Spatial distribution and temporal variation of high fluoride contents in groundwater and prevalence of fluorosis in humans in Yuanmou County, Southwest China. J Hazard Mater. 2012 Oct 15;235-236:201-9. doi: 10.1016/j.jhazmat.2012.07.042. Epub 2012 Aug 8.
Bang S, Boivin G, Gerster JC, Baud CA. Distribution of fluoride in calcified cartilage of a fluoride-treated osteoporotic patient. Bone. 1985;6(4):207-10.
P. Roschger, P. Fratzl, S. Schreiber, G. Kalchhauser, H. Plenk, K. Koller, J. Eschberggrill, K. Klaushofer. Bone mineral structure after six years fluoride treatment investigated by backscattered electron imaging (BSEI) and small angle x-ray scattering (SAXS): a case report. Bone (Impact Factor: 3.82). 01/1995; 16(3):407-407. DOI:10.1016/8756-3282(95)90480-8.
Savas S, Cetin M, Akdoan M, Heybeli N. Endemic fluorosis in Turkish patients: relationship with knee osteoarthritis. Rheumatology International. Rheumatol Int. 2001 Sep;21(1):30-5.
Zeng Q, Cui YS, Zhang L, Fu G, Hou CC, Zhao L, Wang AG, Liu HL. Studies of fluoride on the thyroid cell apoptosis and mechanism. Zhonghua Yu Fang Yi Xue Za Zhi. 2012 Mar;46(3):233-6.
Merck & Co. The Merck Index, 1968 Edition. Rahway NJ. USA. (last accessed (01-10-2014)
FluorideAlert.org. Thyroid. (last accessed (01-10-2014)
Luke J. Fluoride deposition in the aged human pineal gland. Caries Res. 2001 Mar-Apr;35(2):125-8.
Luke J. The Effect of Fluoride on the Physiology of the Pineal Gland. Ph.D Dissertation, School of Biological Sciences, University of Surrey, UK. 1997.
Freni SC. Exposure to high fluoride concentrations in drinking water is associated with decreased birth rates. J Toxicol Environ Health. 1994 May;42(1):109-21.
Zhou Y, Qiu Y, He J, Chen X, Ding Y, Wang Y, Liu X. The toxicity mechanism of sodium fluoride on fertility in female rats. Food Chem Toxicol. 2013 Dec;62:566-72. doi: 10.1016/j.fct.2013.09.023. Epub 2013 Sep 23.
Susheela AK, Jethanandani P. Circulating testosterone levels in skeletal fluorosis patients. J Toxicol Clin Toxicol. 1996;34(2):183-9
Chandrajith R, Nanayakkara S, Itai K, Aturaliya TN, Dissanayake CB, Abeysekera T, Harada K, Watanabe T, Koizumi A. Chronic kidney diseases of uncertain etiology (CKDue) in Sri Lanka: geographic distribution and environmental implications.Environ Geochem Health. 2011 Jun;33(3):267-78. doi: 10.1007/s10653-010-9339-1. Epub 2010 Sep 18.
Chandrajith R, Dissanayake CB, Ariyarathna T, Herath HM, Padmasiri JP. Dose-dependent Na and Ca in fluoride-rich drinking water–another major cause of chronic renal failure in tropical arid regions. Sci Total Environ. 2011 Jan 15;409(4):671-5. doi: 10.1016/j.scitotenv.2010.10.046. Epub 2010 Nov 24.
Liu JL, Xia T, Yu YY, Sun XZ, Zhu Q, He W, Zhang M, Wang A. [The dose-effect relationship of water fluoride levels and renal damage in children]. Wei Sheng Yan Jiu. 2005 May;34(3):287-8.
Varol E, Varol S. Effect of fluoride toxicity on cardiovascular systems: role of oxidative stress. Arch Toxicol. 2012 Oct;86(10):1627. doi: 10.1007/s00204-012-0862-y. Epub 2012 May 10.
Ma Y, Niu R, Sun Z, Wang J, Luo G, Zhang J, Wang J. Inflammatory responses induced by fluoride and arsenic at toxic concentration in rabbit aorta. Arch Toxicol. 2012 Jun;86(6):849-56. doi: 10.1007/s00204-012-0803-9. Epub 2012 Mar 16.
Choi AL, Sun G, Zhang Y, Grandjean P. Developmental fluoride neurotoxicity: a systematic review and meta-analysis. Environ Health Perspect. 2012 Oct;120(10):1362-8. doi: 10.1289/ehp.1104912. Epub 2012 Jul 20.
Tang QQ, Du J, Ma HH, Jiang SJ, Zhou XJ. Fluoride and children’s intelligence: a meta-analysis. Biol Trace Elem Res. 2008 Winter;126(1-3):115-20. doi: 10.1007/s12011-008-8204-x. Epub 2008 Aug 10.

Tuesday, December 30, 2014

STOP EATING ALL BREAD INCLUDING SUBWAY- CANCER CAUSING

Sandwich chain Subway is working towards making its bread without using azodicarbonamide, a chemical that's used to make shoe soles and yoga mats. ABC News quotes a statement from Subway: "The complete conversion to have this product out of the bread will be done soon."In fact USA allows to add this chemical in all dough, flour and western Europe banned it. 

Monday, December 29, 2014

ALCOHOL IS CANCER,CARCINOGEN .STOP IF YOUR DOCTOR TELL YOU NOT TO

World Health Organization's International Agency for Research on Cancer (IARC).
Declared a carcinogen by the IARC in 1988,[2] alcohol is causally related to several cancers. "We have known for a long time that alcohol causes esophageal cancer, says Jürgen Rehm, PhD, WCR contributor on alcohol consumption, and Senior Scientist at the Centre for Addictions and Mental Health in Toronto, Ontario, Canada, "but the relationship with other tumors, such as breast cancer, has come to our attention only in the past 10-15 years.

The Risk Is Dose-Dependent

The more alcohol that a person drinks, the higher the risk. The alcohol/cancer link has been strengthened by the finding of a dose/response relationship between alcohol consumption and certain cancers. A causal relationship exists between alcohol consumption and cancers of the mouth, pharynx, larynx, esophagus, colon-rectum, liver, and female breast; a significant relationship also exists between alcohol consumption and pancreatic cancer.[1]
Links have also been made between alcohol consumption and leukemia; multiple myeloma; and cancers of the cervix, vulva, vagina, and skin, but fewer studies have looked at these relationships and more research is needed to establish a confirmed association.[1] For bladder, lung, and stomach cancers, the evidence for an alcohol-cancer link is conflicting.

How Solid Are These Data?

"For the cancers that have been identified as being causally linked with alcohol, we are absolutely certain that alcohol causes these cancers," says Dr. Rehm. "About a few cancers, such as pancreatic cancer, we are not yet certain," he says. "We believe that we have good evidence showing that alcohol can cause pancreatic cancer, but we would not go so far as we would for esophageal cancer or breast cancer. And for renal cancer, the IARC has said that there are indications that there may be an effect, but we don't have the same level of evidence that we have for cancers that are clearly detrimentally linked to alcohol."
But surely, light drinking doesn't cause or contribute to cancer? Apparently, it does. In a meta-analysis of 222 studies comprising 92,000 light drinkers and 60,000 nondrinkers with cancer, light drinking was associated with risk for oropharyngeal cancer, esophageal squamous cell carcinoma, and female breast cancer.[3] From this meta-analysis, it was estimated that in 2004 worldwide, 5000 deaths from oropharyngeal cancer, 24,000 from esophageal squamous cell carcinoma, and 5000 from breast cancer were attributable to light drinking. Light drinking was not associated with cancer of the colon-rectum, liver, or larynx.

Sunday, December 28, 2014

BLACK PEPPER / कालीमिर्च

१- यदि आपका ब्लड प्रेशर लो रहता है, तो प्रतिदिन तीन दाने कालीमिर्च के साथ 21 दाने किशमिश का सेवन करे।
२- जुकाम होने पर कालीमिर्च के चार-पांच दाने पीसकर एक कप दूध में पकाकर सुबह-शाम लेने से लाभ मिलता है।
३- एक चम्मच शहद में 2-3 बारीक कुटी हुई कालीमिर्च और एक चुटकी हल्दी पाउडर मिलाकर लेने से कफ में राहत मिलती है।
४- इससे शरीर की थकावट दूर होती है। कालीमिर्च से गले की खराश दूर होती है।
५- इससे रक्त संचार सुधरता है।यह दिमाग के लिए फायदेमंद होती है। गैस के कारण पेट फूलने पर कालीमिर्च असरदार होती है। इससे गैस दूर होती है।
६-कालीमिर्च की चाय पीने से सर्दी-ज़ुकाम, खाँसी और वायरल इंफेक्शन में राहत मिलती है। कालीमिर्च पाचनक्रिया में सहायक होती है।
७- कालीमिर्च सभी प्रकार के संक्रमण में लाभ देती है।

बथुआ/BATUA

बथुआ संस्कृत भाषा में वास्तुक और क्षारपत्र के नाम से जाना जाता है | यह एक ऐसा साग है, जो गुणों की खान होने पर भी बिना किसी विशेष परिश्रम और देखभाल के खेतों में स्वत: ही उग जाता है। 
- यह पथरी के रोग के लिए बहुत अच्छी औषधि है . इसके लिए इसका 10-15 ग्राम रस प्रातः सांय लिया जा सकता है |
२- किडनी की समस्या हो जोड़ों में दर्द या सूजन हो ; तो इसके साग के सेवन से लाभ होता है |
३- खून की कमी होने पर इसके पत्तों के 25 ग्राम रस में पानी मिलाकर पीने से लाभ होता है 
४- सामान्य दुर्बलता, बुखार के बाद की अरुचि और कमजोरी में इसका साग खाना हितकारी है।

STOP CHINESE FOOD MIXED WITH AJINOMOTO, अजीनोमोटो

 अजीनोमोटो:यह धीमा जहर है।
अजीनोमोटो::
सफेद रंग का चमकीला सा दिखने वाला मोनोसोडि़यम ग्लूटामेट यानी अजीनोमोटो, एक सोडियम साल्ट है। अगर आप चाइनीज़ डिश के दीवाने हैं तो यह आपको उसमें जरूर मिल जाएगा क्योंकि यह एक मसाले
के रूप में उनमें इस्तमाल किया जाता है। शायद ही आपको पता हो कि यह खाने का स्वाद बढ़ाने वाला मसाला वास्तव में जहर यह धीमा खाने का स्वाद नहीं बढ़ाता बल्कि हमारी स्वाद ग्रन्थियों के कार्य को दबा देता है जिससे हमें खाने के बुरे स्वाद का पता नहीं लगता। मूलतः इस का प्रयोग खाद्य की घटिया गुणवत्ता को छिपाने के लिए किया जाता है। यह सेहत के लिए भी बहुत खतरनाक होता है।
जान लें कि कैसे-
* सिर दर्द, पसीना आना और चक्कर आने जैसी खतरनाक बीमारी आपको अजीनोमोटो से हो सकती है। अगर आप इसके आदि हो चुके हैं और खाने में इसको बहुत प्रयोग करते हैं तो यह आपके दिमाग को भी नुकसान कर सकता है।
* इसको खाने से शरीर में पानी की कमी हो सकती है। चेहरे की सूजन और त्वचा में खिंचावमहसूस होना इसके कुछ साइड इफेक्ट हो सकते हैं।
* इसका ज्यादा प्रयोग से धीरे धीरे सीने में दर्द, सांस लेने में दिक्कत और आलस भी पैदा कर सकता है। इससे सर्दी-जुखाम और थकान भी महसूस होती है। इसमें पाये जाने वाले एसिड सामग्रियों की वजह से यह पेट और गले में जलन भी पैदा कर सकता है।
* पेट के निचले भाग में दर्द, उल्टी आना और डायरिया इसके आम दुष्प्रभावों में से एक हैं।
* अजीनोमोटो आपके पैरों की मासपेशियों और घुटनों में दर्द पैदा कर सकता है। यह हड्डियों को कमज़ोर और शरीर द्वारा जितना भी कैल्शिम लिया गया हो, उसे कम कर देता है।
* उच्च रक्तचाप की समस्या से घिरे लोगों को यह बिल्कुल नहीं खाना चाहिए क्योंकि इससे अचानक ब्लड प्रेशर बढ़ और घट जाता है।
* व्यक्तियों को इससे माइग्रेन होने की समस्या भी हो सकती है। आपके सिर में दर्द पैदा हो रहा है तो उसे तुरंत ही खाना बंद कर दें।
* अजीनोमोटो की उत्पादन प्रक्रिया भी विवादास्पद है : कहा जाता है कि इसका उत्पादन जानवरों के शरीर से प्राप्त सामग्री से भी किया जा सकता है।
*अजीनोमोटो बच्चों के लिए बहुत हानिकारक है। इसके कारण स्कूल
जाने वाले ज्यादातर बच्चे सिरदर्द के शिकार हो रहे हैं। भोजन में एमएसजी का इस्तेमाल या प्रतिदिन एमएसजी युक्त जंकफूड और प्रोसेस्ड फूड का असर बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास पर पड़ता है। कई शोधों में यह बात साबित हो चुकी है कि एमएसजी युक्त डाइट बच्चों में मोटापे की समस्या का एक कारण है। इसके अलावा यह बच्चों को भोजन के प्रति अंतिसंवेदनशील बना सकता है। मसलन, एमएसजी युक्त भोजन अधिक खाने के बाद हो सकता है कि बच्चे को किसी दूसरी डाइट से एलर्जी हो जाए। इसके अलावा, यह बच्चों के व्यवहार से संबंधित समस्याओं का भी एक कारण है। छिपा हो सकता है अजीनोमोटो अब पूरी दुनिया में मैगी नूडल बच्चे बड़े सभी चाव से खाते हैं, इस मैगी में जो राज की बात है वो है Hydrolyzed groundnut protein और स्वाद वर्धक 635 Disodium ribonucleotides यह कम्पनी यह दावा करती है कि इसमें अजीनोमोटो यानि MSG नहीं डाला गया है। जबकि Hydrolyzed groundnut protein पकने के बाद अजीनोमोटो यानि MSG में बदल जाता है और Disodium ribonucleotides इसमें मदद करता है।

Wednesday, December 24, 2014

BILLBERRY EXTRACT FOR INCREASING VISION

eyesightBilberry extract is helpfull for healthy vision ,retina, the light-sensitive portion of the eye, adapt properly to both dark and light.Also used for night blindness by delivering high oxygen to retina cells.Also protects degenerative diseases of the retina.

In one study, 31 patients were treated with bilberry extract daily for four weeks. Use of the extract fortified the capillaries and reduced hemorrhaging in the eyes, especially in cases of diabetes-related retinopathy.

In addition, bilberry is useful for preventing macular degeneration and cataracts. They are the two leading causes of vision loss in older people.

A study of 50 patients with age-related cataracts found that bilberry extract combined with vitamin E supplements inhibited cataract formation in almost all of the participants.

Organic Health

PLANTS AND FLEX SEED OILD TO PREVENT CANCERS

University of Sao Paulo, Brazil, scientist, Eduardo Schenberg,  published a piece in Sage Journals, detailing his belief that Ayahuasca has cancer-fighting abilities, essentially encouraging the legalization of research in the field.Ayahuasca’s active principles, especially DMT and harmine, have positive effects in some cell cultures used to study cancer, and in biochemical processes important in cancer treatment, both in vitro and in vivo, by diminshing blood supply to cancer cells, activate apoptotic pathways, diminish cell proliferation, and change the energetic metabolic imbalance of cancer cells, which is known as the Warburg effect
The DMT in Ayahuasca is primarily found in the leaves of the Psychotria Viridis plant, or the seeds of Syrian Rue, or both.
FLEX SEED ALSO PREVENT CANCER CELLS IN BODY-Video is here-


Organic Health

GALL STONE AND KIDNEY STONE

Dandelion herb ,Mild Thistle,beet root, Cucumber ,carrot,- -get juice from those and mix dandelion herb and pour in apple cidar-For details.
Kidney Stone Juice

Ingredients:

1 orange, peeled
1 apple
1 lemon
4 slices of watermelon
4 ice cubes
all ingredients must be organic.

FOR GALL STONE-

• Apple Juice- 1 glass
• Apple Cider Vinegar- 1 tbsp

Organic Health
 

PARSLEY TO REDUCE CHOLESTEROL AND HELP LOOSE WEIGHT


Directions
Squeeze 1/2  lemon and chop the parsley(3-4 twigs), then add them to the 1 liter( a bottle)  water.
Drink 4 ounces of this healthy drink every day.
 

WART HERBAL THERAPY

sendimageIngredients

1 Tbsp. Castor oil

1/4 tsp. Thuja Essential oil

1/4 tsp. Tea tree oil

2 Vitamin E capsules
Mix above and use on wart two times a day for 3-4 weeks.
 
HOW TO AVOID-
PROTECT IN GYM BY WEARING GLOVES.
DO NOT SHAKE HANDS.
WASH HANDS THOROGHLY WITH NML SOAP.
 

GRAPEFRUIT FOR CELLULITE REMOVAL

Cellulite is a harmless skin condition where fat accumulate as fibrous cord in between skin and muscle creating dimpling skin surface. Most women have cellulite, according to MayoClinic.com.

Here comes GRAPEFRUIT-
HOW TO USE-Mix one grapefruit juice or whole+1 orange juice or whole+1/2 LEMON and small ginger- Drink it twice a week.You could keep in refrigerator for 1 week.

 Organic Health
 

MUSHROOM-ANTICANCER PLANT/FUNGUS

Mushrooms provides nutrients and  also boost immune system. Research done by Robert Murphy, M.D., a naturopathic doctor in private practice in Torrington, Connecticut.
The active polysaccharide in maitake mushrooms, called beta-glucan or D-fraction, has been highly effective in shrinking tumors in laboratory animals, maybe even more effective than lentinan, say experts.
 

HOW TO PREVENT MACULAR DEGENERATION

ss36006
GREEN LEAFY VEGETABLE,CARROT,ALL FRUITS,PUMPKIN,SWEAT POTATOES,MANGOES,PAPAYA, YELLOW PEPPER,EGG YOLK,contain potent antioxidants like beta-carotene, zeaxanthin and lutein — which defend against age-related blindness resulting from macular degeneration.
Foods high in sulfur, lecithin and cysteine -like in garlic, onions, shallots, leeks, tree nuts, dairy, coconut and legumes   reduce the risk of cataracts.

Blueberries, black currant, acai and goji berries have anthocyanin ,antioxidant and anti-inflammatory that substantially improves eye health.

Coldwater fish like salmon, sardines and mackerel provide essential fatty acids that help support cell membranes and help in general.
ABOVE IS HELPFUL FOR ALL BODY PART ANYWAY.
Exercises
-RUB PALM AND PLACE OVER EYES FOR ONCE A DAY.
-ROLL EYES SIDE TO SIDE
-FOCUS EYES WITH KEEPING A PEN 12 FEET AWAY AND SLOWLY BRING CLOSEST TO EYE POSSIBLE.

APPLE CIDAR VINEGAR- ALTERNATIVE TO SHAMPOO TO WASH HAIR

Unfiltered apple cider vinegar can be used as alternative to synthetic shampoo to wash hair. Not only it is used as cleansing, but gives luster and reduces hair-loss and dandruff by destroying the bacteria and/or fungi that clog hair follicles.It has alpha-hydroxy acid that cleans scalp. Use 1 tablespoonful(15 ml) to wash once a week.
Source-organic health

Tuesday, December 23, 2014

HAIR FALL-ONION IS BEST -STOP ALL AS NONE WORKS.

Loosing 50-100 hairs per day is considered as normal.
It has sulphites so may improve hair groth, how it does not sure but it helps.
Extract juice and leave on scalp for 30 minutes then wash with herbal shampoo or nake your own - lime juice and amla juice and then use some shampoo to wash. smell is pungent ffor 1 week. use once a month. Results in6 month to one year.
 

Saturday, December 20, 2014

KNOW YOUR BODY

Photo: एक जानकारीः---
----------------------

(1.) सबसे तेज तन्त्रिका आवेग 532 किमी. प्रति घण्टा होती है।

(2.) मनुष्य के फेफडे का आन्तरिक क्षेत्रफल 93 वर्ग मीटर होता है, जो सम्पूर्ण शरीर के बाह्य क्षेत्रफल का 40 गुणा होता है।

(3.) हड्डियाँ क्रंकीट जैसी मजबूत और ग्रेनाइट जैसी कठोर होती है।

(4.) शरीर के भीतर प्रति सेकेण्ड लगभग 150 लाख कोशिकाएँ नष्ट होती हैं।

(5.) गुर्दे का भार लगभग 150 ग्राम होता है।

(6.) एक बार साँस अन्दर लेने में सामान्य वयस्क लगभग 500 मि.लि. हवा अन्दर ले जाता है।

(7.) हृदय की रक्त पम्प करने की क्षमता 4.5 लीटर प्रति मिनट होती है।

(8.) छोटी आँत लगभग 7 मीटर लम्बी होती है और उसका व्यास 2.5 से.मी. होता है।

(9.) शरीर के भीतर रक्त-परिभ्रमण में लगभग 23 सेकेण्ड का समय लगता है।

(10.) मनुष्य के शरीर में लगभग 50 लाख बाल होते हैं।

कृपया जानकारियों से भरपूर इन तीनों पृष्ठों को लाइक करें :----

वैदिक संस्कृत
www.facebook.com/vaidiksanskrit 

लौकिक संस्कृत
www.facebook.com/laukiksanskrit 

ज्ञानोदय
www.facebook.com/jnanodaya
एक जानकारीः---
----------------------

(1.) सबसे तेज तन्त्रिका आवेग 532 किमी. प्रति घण्टा होती है।

(2.) मनुष्य के फेफडे का आन्तरिक क्षेत्रफल 93 वर्ग मीटर होता है, जो सम्पूर्ण शरीर के बाह्य क्षेत्रफल का 40 गुणा होता है।

(3.) हड्डियाँ क्रंकीट जैसी मजबूत और ग्रेनाइट जैसी कठोर होती है।

(4.) शरीर के भीतर प्रति सेकेण्ड लगभग 150 लाख कोशिकाएँ नष्ट होती हैं।

(5.) गुर्दे का भार लगभग 150 ग्राम होता है।

(6.) एक बार साँस अन्दर लेने में सामान्य वयस्क लगभग 500 मि.लि. हवा अन्दर ले जाता है।

(7.) हृदय की रक्त पम्प करने की क्षमता 4.5 लीटर प्रति मिनट होती है।

(8.) छोटी आँत लगभग 7 मीटर लम्बी होती है और उसका व्यास 2.5 से.मी. होता है।

(9.) शरीर के भीतर रक्त-परिभ्रमण में लगभग 23 सेकेण्ड का समय लगता है।

(10.) मनुष्य के शरीर में लगभग 50 लाख बाल होते हैं।

बम निरोधक दस्ता--फल मक्खियों, FRUITFLIES

Photo: बम निरोधक दस्ता
===================

फल मक्खियों की नाक मादक तथा विस्फोटक पदार्थो का पता उससे निकलती गंध के आधार पर लगा सकती हैं।  हालिया अध्ययन में यह खुलासा हुआ ह।. मादक पदार्थो व बम का पता लगाने के लिए एक नई तकनीक में मक्खियों की सूंघने की क्षमता का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  
इस अध्ययन ने वैज्ञानिकों को इलेक्ट्रॉनिक नाक (ई-नोज) के विकास के निकट ला दिया है, जो जानवरों के संवेदनशील सूंघने की क्षमता के जैसी होगी।
 
ब्रिटेन के ससेक्स विश्वविद्यालय में मुख्य शोधकर्ता प्रोफेसर थॉमस नोवोत्नी ने कहा, "अपरिचित गंध की मक्खी न केवल पहचान करने में सक्षम है, बल्कि इस काम को वह पूरी सूक्ष्मता से अंजाम देती है।"
 
शोधकर्ताओं ने शोध के दौरान दर्ज किया कि फल मक्खी में मौजूद 20 विभिन्न संग्राहक तंत्रिकाएं शराब से संबंधित 36 रसायनों तथा हानिकारक पदार्थो से संबंधित 35 रसायनों के प्रति प्रतिक्रिया व्यक्त करती हैं।
 
मक्खी ने मादक तथा विस्फोटक के 35 में से 21 पदार्थो के प्रति प्रतिक्रिया दी। नोवोत्नी ने कहा, "इस शोध का मूल उद्देश्य ई-नोज का विकास करना है।" यह अध्ययन पत्रिका 'बायोइंस्पाइरेशन एंड बायोमिमेटिक्स' में प्रकाशित हुआ है।

ज्ञानोदय
www.facebook.com/jnanodayaबम निरोधक दस्ता
===================

फल मक्खियों की नाक मादक तथा विस्फोटक पदार्थो का पता उससे निकलती गंध के आधार पर लगा सकती हैं। हालिया अध्ययन में यह खुलासा हुआ ह।. मादक पदार्थो व बम का पता लगाने के लिए एक नई तकनीक में मक्खियों की सूंघने की क्षमता का इस्तेमाल किया जा सकता है।

इस अध्ययन ने वैज्ञानिकों को इलेक्ट्रॉनिक नाक (ई-नोज) के विकास के निकट ला दिया है, जो जानवरों के संवेदनशील सूंघने की क्षमता के जैसी होगी।

ब्रिटेन के ससेक्स विश्वविद्यालय में मुख्य शोधकर्ता प्रोफेसर थॉमस नोवोत्नी ने कहा, "अपरिचित गंध की मक्खी न केवल पहचान करने में सक्षम है, बल्कि इस काम को वह पूरी सूक्ष्मता से अंजाम देती है।"

शोधकर्ताओं ने शोध के दौरान दर्ज किया कि फल मक्खी में मौजूद 20 विभिन्न संग्राहक तंत्रिकाएं शराब से संबंधित 36 रसायनों तथा हानिकारक पदार्थो से संबंधित 35 रसायनों के प्रति प्रतिक्रिया व्यक्त करती हैं।

मक्खी ने मादक तथा विस्फोटक के 35 में से 21 पदार्थो के प्रति प्रतिक्रिया दी। नोवोत्नी ने कहा, "इस शोध का मूल उद्देश्य ई-नोज का विकास करना है।" यह अध्ययन पत्रिका 'बायोइंस्पाइरेशन एंड बायोमिमेटिक्स' में प्रकाशित हुआ है।

Friday, December 19, 2014

MANY AYURVEDIC MEDICINES FROM ACHARYA BALAKRISHN FB PAGE

Photo: गिलोय
Photo: कब्ज़ -
Photo: सब्ज़ियों का रस – शरीर के लिए आवश्यक
Photo: माइग्रेन (आधासीसी) -
Photo: बच्चोँ का बिस्तर पर पेशाब करना -
Photo: तेजपात की चाय -
Photo: "बड़ी इलायची" - एक अदभुत औषधि
Photo: फोड़ों का उपचार -
Photo: स्मृतिवर्धक  नारियल
Photo: हिचकी -
Photo: चूँकि शरीर का सीधा सम्बन्ध प्रकृति से है, अतः रोग भी प्रकृतिगत असुंतलन से ही पैदा होते हैं, ऐसे में औषधि प्रकृतिस्थ तत्वों से युक्त होनी चाहिये, इसके अतिरिक्त यदि दवा/प्रसाधन के नाम पर किन्हीं रासायनिक तत्वों का प्रयोग शरीर पर करते हैं तो तत्काल न सही, कभी न कभी तो वह शरीर के साथ विद्रोही तेवर दिखायेगा ही, अतः अक्षय आरोग्य के लिए आवश्यक है कि शारीरिक, मानसिक रोग में प्राकृतिक तत्वों का ही प्रयोग करें-

Photo: आँखों के काले घेरे -
Photo: दर्द के लिए तेल-
Photo
Photo: इन प्राकृतिक आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों के सेवन से आप वर्षा ऋतु में भी स्वस्थ रह सकते हैं ……

प्याज, ONION

Photo: प्याज के लाभ ---
- प्याज काट कर रखने से यह वातावरण में मौजूद बैक्टीरिया सोख लेता है.
- कान दर्द : प्याज गर्म राख में भुनकर उसका पानी निचोड़कर कान में डाले। दर्द में तुरंत लाभ होगा

- मोतिया बिन्द : प्याज का रस एक तोला, असली शहद एक तोला, भीमसेनी कपूर तीन माशे सबको खूब मिलाकर लगाने से मोतिया का असर नहीं होता।

- पेट के कीड़े-प्याज का कच्चा रस पिलाने से पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हें
- बारूद से जलने पर- यदि शरीर का कोई भाग बारूद से जल जाये तो उस स्थान पर प्याज का रस लगाने से लाभ होता है।
- कब्‍ज दूर करता है .
- गले की खराश मिटाए- यदि आप सर्दी, कफ या खराश से पीडित हैं तो आप ताजे प्‍याज का रस पीजिये। इमसें गुड या फिर शहद मिलाया जा सकता है। 
- ब्‍लीडिंग समस्‍या दूर करे- नाक से खून बह रहा हो तो कच्‍चा प्‍याज काट कर सूघ लीजिये। 
- पाइल्‍स की समस्‍या में सफेद प्‍याज खाना शुरु कर दें। - मधुमेह करे कंट्रोल- कच्‍चा प्याज खाया जाए तो यह शरीर में इंसुलिन उत्‍पन्‍न करेगा। 
- दिल की सुरक्षा- कच्‍चा प्‍याज हाई ब्‍लड प्रेशर को नार्मल करता है और बंद खून की धमनियों को खोलता है जिससे दिल की कोई बीमारी नहीं होती। 
- कोलेस्‍ट्रॉल कंट्रोल करे- इसमें मिथाइल सल्‍फाइड और अमीनो एसिड होता है जो कि खराब कोलेस्‍ट्रॉल को घटा कर अच्‍छे कोलेस्‍ट्रॉल को बढाता है। 
- कैंसर सेल की ग्रोथ रोके- प्‍याज में सल्‍फर तत्‍व अधिक होते हैं। सल्‍फर शरीर को पेट, कोलोन, ब्रेस्‍ट, फेफडे और प्रोस्‍टेट कैंसर से बचाता है। 
- एनीमिया ठीक करे- प्‍याज काटते वक्‍त आंखों से आंसू टपकते हैं, ऐसा प्‍याज में मौजूद सल्‍फर की वजह से होता है। इस सल्‍फर में एक तेल मौजूद होता है जो कि एनीमिया को ठीक करने में सहायक होता है। खाना पकाते वक्‍त यही सल्‍फर जल जाता है, तो ऐसे में कच्‍चा प्‍याज खाइये।
- बाल गिरने की समस्या से निजात पाने के लिए प्याज बहुत ही असरकारी है। गिरते हुए बालों के स्थान पर प्याज का रस रगडने से बाल गिरना बंद हो जाएंगे। इसके अलावा लेप लगाने पर काले बाल उगने शुरू हो जाते हैं। 
- पथरी की शिकायत में प्याज बहुत उपयोगी है। प्याज के रस को चीनी में मिलाकर शरबत बनाकर पीने से पथरी की से निजात मिलता है। प्याज का रस सुबह खाली पेट पीने से पथरी अपने-आप कटकर बाहर निकल जाती है।
- गठिया के लिए – गठिया में प्याज बहुत ही फायदेमंद होता है। गठिया में सरसों का तेल व प्याज का रस मिलाकर मालिश करें, फायदा होगा। 
- प्याज का पेस्ट लगाने से फटी एडियों को राहत मिलती है।
- दांत में पायरिया है, तो प्याज के टुकड़ों को तवे पर गर्म कीजिए और दांतों के नीचे दबाकर मुंह बंद कर लीजिए। इस प्रकार 10-12 मिनट में लार मुंह में इकट्ठी हो जाएगी। उसे मुंह में चारों ओर घुमाइए फिर निकाल फेंकिए। दिन में 4-5 बार 8-10 दिन करें, पायरिया जड़ से खत्म हो जाएगा, दांत के कीड़े भी मर जाएंगे और मसूड़ों को भी मजबूती प्राप्त होगी । 
- प्याज के सेवन से आंखों की ज्योति बढ़ती है। 
- प्याज के रस का नाभि पर लेप करने से पतले दस्त में लाभ होता है। अपच की शिकायत होने पर प्याज के रस में थोड़ा-सा नमक मिलाकर सेवन करें। 
- सफेद प्याज के रस में शहद मिलाकर सेवन करना दमा रोग में बहुत लाभदायक है।प्याज के लाभ ---
- प्याज काट कर रखने से यह वातावरण में मौजूद बैक्टीरिया सोख लेता है.
- कान दर्द : प्याज गर्म राख में भुनकर उसका पानी निचोड़कर कान में डाले। दर्द में तुरंत लाभ होगा

- मोतिया बिन्द : प्याज का रस एक तोला, असली शहद एक तोला, भीमसेनी कपूर तीन माशे सबको खूब मिलाकर लगाने से मोतिया का असर नहीं होता।

- पेट के कीड़े-प्याज का कच्चा रस पिलाने से पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हें
- बारूद से जलने पर- यदि शरीर का कोई भाग बारूद से जल जाये तो उस स्थान पर प्याज का रस लगाने से लाभ होता है।
- कब्‍ज दूर करता है .
- गले की खराश मिटाए- यदि आप सर्दी, कफ या खराश से पीडित हैं तो आप ताजे प्‍याज का रस पीजिये। इमसें गुड या फिर शहद मिलाया जा सकता है।
- ब्‍लीडिंग समस्‍या दूर करे- नाक से खून बह रहा हो तो कच्‍चा प्‍याज काट कर सूघ लीजिये।
- पाइल्‍स की समस्‍या में सफेद प्‍याज खाना शुरु कर दें। - मधुमेह करे कंट्रोल- कच्‍चा प्याज खाया जाए तो यह शरीर में इंसुलिन उत्‍पन्‍न करेगा।
- दिल की सुरक्षा- कच्‍चा प्‍याज हाई ब्‍लड प्रेशर को नार्मल करता है और बंद खून की धमनियों को खोलता है जिससे दिल की कोई बीमारी नहीं होती।
- कोलेस्‍ट्रॉल कंट्रोल करे- इसमें मिथाइल सल्‍फाइड और अमीनो एसिड होता है जो कि खराब कोलेस्‍ट्रॉल को घटा कर अच्‍छे कोलेस्‍ट्रॉल को बढाता है।
- कैंसर सेल की ग्रोथ रोके- प्‍याज में सल्‍फर तत्‍व अधिक होते हैं। सल्‍फर शरीर को पेट, कोलोन, ब्रेस्‍ट, फेफडे और प्रोस्‍टेट कैंसर से बचाता है।
- एनीमिया ठीक करे- प्‍याज काटते वक्‍त आंखों से आंसू टपकते हैं, ऐसा प्‍याज में मौजूद सल्‍फर की वजह से होता है। इस सल्‍फर में एक तेल मौजूद होता है जो कि एनीमिया को ठीक करने में सहायक होता है। खाना पकाते वक्‍त यही सल्‍फर जल जाता है, तो ऐसे में कच्‍चा प्‍याज खाइये।
- बाल गिरने की समस्या से निजात पाने के लिए प्याज बहुत ही असरकारी है। गिरते हुए बालों के स्थान पर प्याज का रस रगडने से बाल गिरना बंद हो जाएंगे। इसके अलावा लेप लगाने पर काले बाल उगने शुरू हो जाते हैं।
- पथरी की शिकायत में प्याज बहुत उपयोगी है। प्याज के रस को चीनी में मिलाकर शरबत बनाकर पीने से पथरी की से निजात मिलता है। प्याज का रस सुबह खाली पेट पीने से पथरी अपने-आप कटकर बाहर निकल जाती है।
- गठिया के लिए – गठिया में प्याज बहुत ही फायदेमंद होता है। गठिया में सरसों का तेल व प्याज का रस मिलाकर मालिश करें, फायदा होगा।
- प्याज का पेस्ट लगाने से फटी एडियों को राहत मिलती है।
- दांत में पायरिया है, तो प्याज के टुकड़ों को तवे पर गर्म कीजिए और दांतों के नीचे दबाकर मुंह बंद कर लीजिए। इस प्रकार 10-12 मिनट में लार मुंह में इकट्ठी हो जाएगी। उसे मुंह में चारों ओर घुमाइए फिर निकाल फेंकिए। दिन में 4-5 बार 8-10 दिन करें, पायरिया जड़ से खत्म हो जाएगा, दांत के कीड़े भी मर जाएंगे और मसूड़ों को भी मजबूती प्राप्त होगी ।
- प्याज के सेवन से आंखों की ज्योति बढ़ती है।
- प्याज के रस का नाभि पर लेप करने से पतले दस्त में लाभ होता है। अपच की शिकायत होने पर प्याज के रस में थोड़ा-सा नमक मिलाकर सेवन करें।
- सफेद प्याज के रस में शहद मिलाकर सेवन करना दमा रोग में बहुत लाभदायक है।

जीरा --CUMMIN SEEDS FOR DIABETES

Photo: जीरा -----

जीरा एक ऐसा मसाला है जिसके छौंक से दाल और सब्जियों का स्वाद बहुत बढ़ जाता है। चाट का चटपटा स्वाद भी जीरे के बिना अधूरा सा लगता है। अंग्रेजी में इसे क्यूमिन कहा जाता है। इसका वानस्पतिक नाम क्यूमिनम सायमिनम है। यह पियेशी परिवार का एक पुष्पीय पौधा है। मुख्यत: पूर्वी भूमध्य सागर से लेकर भारत तक इसकी पैदावार अधिक होती है।

दिखने में सौंफ के आकार का दिखाई देने वाला जीरा सिर्फ खाने का स्वाद ही नहीं बढ़ाता यह बहुत उपयोगी भी है। यही कारण है कि कई रोगों में दवा के रूप में भी जीरे का उपयोग किया जा सकता है। आइए देखते हैं घरेलू नुस्खे के रूप में किन रोगों के उपचार के लिए जीरा उपयोगी है......

- जीरा आयरन का सबसे अच्छा स्रोत है। इसे नियमित रूप से खाने से खून की कमी दूर हो जाती है। गर्भवती महिलाओं के लिए जीरा अमृत का काम करता है। 

- जीरा, अजवाइन, सौंठ, कालीमिर्च, और काला नमक अंदाज से लेकर इसमें घी में भूनी हींग कम मात्रा में मिलाकर खाने से पाचन शक्ति बढ़ती है। पेट का दर्द ठीक हो जाता है।

- जीरा, अजवाइन और काला नमक का चूर्ण बनाकर रोजाना एक चम्मच खाने से तेज भूख लगती है।

- 3 ग्राम जीरा और 125 मि.ग्रा. फिटकरी पोटली में बांधकर गुलाब जल में भिगो दें। आंख में दर्द होने पर या लाल होने पर इस रस को टपकाने से आराम मिलता है।

- दही में भुने जीरे का चूर्ण मिलाकर खाने से डायरिया में आराम मिलता है।

- जीरे को नींबू के रस में भिगोकर नमक मिलाकर खाने से जी मिचलाना बंद हो जाता है।

- जीरा में थोड़ा-सा सिरका डालकर खाने से हिचकी बंद हो जाती है। 

- जीरे को गुड़ में मिलाकर गोलियां बनाकर खाने से मलेरिया में लाभ होता है।

- एक चुटकी कच्चा जीरा खाने से एसिडिटी में तुरंत राहत मिलती है।

- डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए एक छोटा चम्मच पिसा जीरा दिन में दो बार पानी के साथ लेने से लाभ होता है। 

- कब्जियत की समस्या हो तो जीरा, काली मिर्च, सौंठ और करी पाउडर को बराबर मात्रा में लें और मिश्रण तैयार कर लें। इसमें स्वादानुसार नमक डालकर घी में मिलाएं और चावल के साथ खाएं।राहत मिलेगी।

- पके हुए केले को मैश करके उसमें थोड़ा-सा जीरा मिलाकर रोजाना रात के खाने के बाद लें। अनिद्रा की समस्या दूर हो जाएगी।

- इसमें एंटीसेप्टिक तत्व भी पाया जाता है। सीने में जमे हुए कफ को बाहर निकलने के लिए जीरे को पीसकर फांक लें। यह सर्दी-जुकाम से भी राहत दिलाता है। 

- हींग को उबाल लें। इस पानी में जीरा, पुदीना, नींबू और नमक मिलाकर पिलाने से हिस्टीरिया के रोगी को तत्काल लाभ होता है।

- थायराइड (गले की गांठ) में एक कप पालक के रस के साथ एक चम्मच शहद और चौथाई चम्मच जीरा पाउडर मिलाकर सेवन करने से लाभ होता है।

- मेथी, अजवाइन, जीरा और सौंफ 50-50 ग्राम और स्वादानुसार काला नमक मिलाकर पीस लें। एक चम्मच रोज सुबह सेवन करें। इससे शुगर, जोड़ों के दर्द और पेट के विकारों से आराम मिलेगा। 

- प्रसूति के पश्चात जीरे के सेवन से गर्भाशय की सफाई हो जाती है।

- खुजली की समस्या हो तो जीरे को पानी में उबालकर स्नान करें। राहत मिलेगी। 

- एक गिलास ताजी छाछ में सेंधा नमक और भुना हुआ जीरा मिलाकर भोजन के साथ लें। इससे अजीर्ण और अपच से छुटकारा मिलेगा।

- आंवले की गुठली निकालकर पीसकर भून लें। फिर उसमें स्वादानुसार जीरा, अजवाइन, सेंधा नमक और थोड़ी-सी भुनी हुई हींग मिलाकर गोलियां बना लें। इन्हें खाने से भूख बढ़ती है। इतना ही नहीं, इससे डकार, चक्कर और दस्त में लाभ होता है।

- जीरा उबाल लें और छानकर ठंडा करें। इस पानी से मुंह धोने से आपका चेहरा साफ और चमकदार होगा।

- एक चम्मच जीरा भूनकर रोजाना चबाने से याददाश्त अच्छी रहती है।

- जिनको अस्थमा, ब्रोंकाइटिस या अन्य सांस संबंधी समस्या है, उन्हें जीरे का नियमित प्रयोग किसी भी रूप में करना चाहिए।

- दक्षिण भारत में लोग अक्सर जीरे का पानी पीते हैं। उनके अनुसार, इसके सेवन से मौसमी बीमारियां नहीं होतीं और पेट भी तंदुरुस्त रहता है।

- 50 ग्राम जीरे में 50 ग्राम मिश्री मिलाकर पीसकर पाउडर बना लें। इसे सुबह-शाम एक चम्मच सेवन करें। बवासीर में आराम मिलेगा।जीरा -----

जीरा एक ऐसा मसाला है जिसके छौंक से दाल और सब्जियों का स्वाद बहुत बढ़ जाता है। चाट का चटपटा स्वाद भी जीरे के बिना अधूरा सा लगता है। अंग्रेजी में इसे क्यूमिन कहा जाता है। इसका वानस्पतिक नाम क्यूमिनम सायमिनम है। यह पियेशी परिवार का एक पुष्पीय पौधा है। मुख्यत: पूर्वी भूमध्य सागर से लेकर भारत तक इसकी पैदावार अधिक होती है।

दिखने में सौंफ के आकार का दिखाई देने वाला जीरा सिर्फ खाने का स्वाद ही नहीं बढ़ाता यह बहुत उपयोगी भी है। यही कारण है कि कई रोगों में दवा के रूप में भी जीरे का उपयोग किया जा सकता है। आइए देखते हैं घरेलू नुस्खे के रूप में किन रोगों के उपचार के लिए जीरा उपयोगी है......

- जीरा आयरन का सबसे अच्छा स्रोत है। इसे नियमित रूप से खाने से खून की कमी दूर हो जाती है। गर्भवती महिलाओं के लिए जीरा अमृत का काम करता है।

- जीरा, अजवाइन, सौंठ, कालीमिर्च, और काला नमक अंदाज से लेकर इसमें घी में भूनी हींग कम मात्रा में मिलाकर खाने से पाचन शक्ति बढ़ती है। पेट का दर्द ठीक हो जाता है।

- जीरा, अजवाइन और काला नमक का चूर्ण बनाकर रोजाना एक चम्मच खाने से तेज भूख लगती है।

- 3 ग्राम जीरा और 125 मि.ग्रा. फिटकरी पोटली में बांधकर गुलाब जल में भिगो दें। आंख में दर्द होने पर या लाल होने पर इस रस को टपकाने से आराम मिलता है।

- दही में भुने जीरे का चूर्ण मिलाकर खाने से डायरिया में आराम मिलता है।

- जीरे को नींबू के रस में भिगोकर नमक मिलाकर खाने से जी मिचलाना बंद हो जाता है।

- जीरा में थोड़ा-सा सिरका डालकर खाने से हिचकी बंद हो जाती है।

- जीरे को गुड़ में मिलाकर गोलियां बनाकर खाने से मलेरिया में लाभ होता है।

- एक चुटकी कच्चा जीरा खाने से एसिडिटी में तुरंत राहत मिलती है।

- डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए एक छोटा चम्मच पिसा जीरा दिन में दो बार पानी के साथ लेने से लाभ होता है।

- कब्जियत की समस्या हो तो जीरा, काली मिर्च, सौंठ और करी पाउडर को बराबर मात्रा में लें और मिश्रण तैयार कर लें। इसमें स्वादानुसार नमक डालकर घी में मिलाएं और चावल के साथ खाएं।राहत मिलेगी।

- पके हुए केले को मैश करके उसमें थोड़ा-सा जीरा मिलाकर रोजाना रात के खाने के बाद लें। अनिद्रा की समस्या दूर हो जाएगी।

- इसमें एंटीसेप्टिक तत्व भी पाया जाता है। सीने में जमे हुए कफ को बाहर निकलने के लिए जीरे को पीसकर फांक लें। यह सर्दी-जुकाम से भी राहत दिलाता है।

- हींग को उबाल लें। इस पानी में जीरा, पुदीना, नींबू और नमक मिलाकर पिलाने से हिस्टीरिया के रोगी को तत्काल लाभ होता है।

- थायराइड (गले की गांठ) में एक कप पालक के रस के साथ एक चम्मच शहद और चौथाई चम्मच जीरा पाउडर मिलाकर सेवन करने से लाभ होता है।

- मेथी, अजवाइन, जीरा और सौंफ 50-50 ग्राम और स्वादानुसार काला नमक मिलाकर पीस लें। एक चम्मच रोज सुबह सेवन करें। इससे शुगर, जोड़ों के दर्द और पेट के विकारों से आराम मिलेगा।

- प्रसूति के पश्चात जीरे के सेवन से गर्भाशय की सफाई हो जाती है।

- खुजली की समस्या हो तो जीरे को पानी में उबालकर स्नान करें। राहत मिलेगी।

- एक गिलास ताजी छाछ में सेंधा नमक और भुना हुआ जीरा मिलाकर भोजन के साथ लें। इससे अजीर्ण और अपच से छुटकारा मिलेगा।

- आंवले की गुठली निकालकर पीसकर भून लें। फिर उसमें स्वादानुसार जीरा, अजवाइन, सेंधा नमक और थोड़ी-सी भुनी हुई हींग मिलाकर गोलियां बना लें। इन्हें खाने से भूख बढ़ती है। इतना ही नहीं, इससे डकार, चक्कर और दस्त में लाभ होता है।

- जीरा उबाल लें और छानकर ठंडा करें। इस पानी से मुंह धोने से आपका चेहरा साफ और चमकदार होगा।

- एक चम्मच जीरा भूनकर रोजाना चबाने से याददाश्त अच्छी रहती है।

- जिनको अस्थमा, ब्रोंकाइटिस या अन्य सांस संबंधी समस्या है, उन्हें जीरे का नियमित प्रयोग किसी भी रूप में करना चाहिए।

- दक्षिण भारत में लोग अक्सर जीरे का पानी पीते हैं। उनके अनुसार, इसके सेवन से मौसमी बीमारियां नहीं होतीं और पेट भी तंदुरुस्त रहता है।

- 50 ग्राम जीरे में 50 ग्राम मिश्री मिलाकर पीसकर पाउडर बना लें। इसे सुबह-शाम एक चम्मच सेवन करें। बवासीर में आराम मिलेगा।

Photo: जीरा -----

जीरा एक ऐसा मसाला है जिसके छौंक से दाल और सब्जियों का स्वाद बहुत बढ़ जाता है। चाट का चटपटा स्वाद भी जीरे के बिना अधूरा सा लगता है। अंग्रेजी में इसे क्यूमिन कहा जाता है। इसका वानस्पतिक नाम क्यूमिनम सायमिनम है। यह पियेशी परिवार का एक पुष्पीय पौधा है। मुख्यत: पूर्वी भूमध्य सागर से लेकर भारत तक इसकी पैदावार अधिक होती है।

दिखने में सौंफ के आकार का दिखाई देने वाला जीरा सिर्फ खाने का स्वाद ही नहीं बढ़ाता यह बहुत उपयोगी भी है। यही कारण है कि कई रोगों में दवा के रूप में भी जीरे का उपयोग किया जा सकता है। आइए देखते हैं घरेलू नुस्खे के रूप में किन रोगों के उपचार के लिए जीरा उपयोगी है......

- जीरा आयरन का सबसे अच्छा स्रोत है। इसे नियमित रूप से खाने से खून की कमी दूर हो जाती है। गर्भवती महिलाओं के लिए जीरा अमृत का काम करता है। 

- जीरा, अजवाइन, सौंठ, कालीमिर्च, और काला नमक अंदाज से लेकर इसमें घी में भूनी हींग कम मात्रा में मिलाकर खाने से पाचन शक्ति बढ़ती है। पेट का दर्द ठीक हो जाता है।

- जीरा, अजवाइन और काला नमक का चूर्ण बनाकर रोजाना एक चम्मच खाने से तेज भूख लगती है।

- 3 ग्राम जीरा और 125 मि.ग्रा. फिटकरी पोटली में बांधकर गुलाब जल में भिगो दें। आंख में दर्द होने पर या लाल होने पर इस रस को टपकाने से आराम मिलता है।

- दही में भुने जीरे का चूर्ण मिलाकर खाने से डायरिया में आराम मिलता है।

- जीरे को नींबू के रस में भिगोकर नमक मिलाकर खाने से जी मिचलाना बंद हो जाता है।

- जीरा में थोड़ा-सा सिरका डालकर खाने से हिचकी बंद हो जाती है। 

- जीरे को गुड़ में मिलाकर गोलियां बनाकर खाने से मलेरिया में लाभ होता है।

- एक चुटकी कच्चा जीरा खाने से एसिडिटी में तुरंत राहत मिलती है।

- डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए एक छोटा चम्मच पिसा जीरा दिन में दो बार पानी के साथ लेने से लाभ होता है। 

- कब्जियत की समस्या हो तो जीरा, काली मिर्च, सौंठ और करी पाउडर को बराबर मात्रा में लें और मिश्रण तैयार कर लें। इसमें स्वादानुसार नमक डालकर घी में मिलाएं और चावल के साथ खाएं।राहत मिलेगी।

- पके हुए केले को मैश करके उसमें थोड़ा-सा जीरा मिलाकर रोजाना रात के खाने के बाद लें। अनिद्रा की समस्या दूर हो जाएगी।

- इसमें एंटीसेप्टिक तत्व भी पाया जाता है। सीने में जमे हुए कफ को बाहर निकलने के लिए जीरे को पीसकर फांक लें। यह सर्दी-जुकाम से भी राहत दिलाता है। 

- हींग को उबाल लें। इस पानी में जीरा, पुदीना, नींबू और नमक मिलाकर पिलाने से हिस्टीरिया के रोगी को तत्काल लाभ होता है।

- थायराइड (गले की गांठ) में एक कप पालक के रस के साथ एक चम्मच शहद और चौथाई चम्मच जीरा पाउडर मिलाकर सेवन करने से लाभ होता है।

- मेथी, अजवाइन, जीरा और सौंफ 50-50 ग्राम और स्वादानुसार काला नमक मिलाकर पीस लें। एक चम्मच रोज सुबह सेवन करें। इससे शुगर, जोड़ों के दर्द और पेट के विकारों से आराम मिलेगा। 

- प्रसूति के पश्चात जीरे के सेवन से गर्भाशय की सफाई हो जाती है।

- खुजली की समस्या हो तो जीरे को पानी में उबालकर स्नान करें। राहत मिलेगी। 

- एक गिलास ताजी छाछ में सेंधा नमक और भुना हुआ जीरा मिलाकर भोजन के साथ लें। इससे अजीर्ण और अपच से छुटकारा मिलेगा।

- आंवले की गुठली निकालकर पीसकर भून लें। फिर उसमें स्वादानुसार जीरा, अजवाइन, सेंधा नमक और थोड़ी-सी भुनी हुई हींग मिलाकर गोलियां बना लें। इन्हें खाने से भूख बढ़ती है। इतना ही नहीं, इससे डकार, चक्कर और दस्त में लाभ होता है।

- जीरा उबाल लें और छानकर ठंडा करें। इस पानी से मुंह धोने से आपका चेहरा साफ और चमकदार होगा।

- एक चम्मच जीरा भूनकर रोजाना चबाने से याददाश्त अच्छी रहती है।

- जिनको अस्थमा, ब्रोंकाइटिस या अन्य सांस संबंधी समस्या है, उन्हें जीरे का नियमित प्रयोग किसी भी रूप में करना चाहिए।

- दक्षिण भारत में लोग अक्सर जीरे का पानी पीते हैं। उनके अनुसार, इसके सेवन से मौसमी बीमारियां नहीं होतीं और पेट भी तंदुरुस्त रहता है।

- 50 ग्राम जीरे में 50 ग्राम मिश्री मिलाकर पीसकर पाउडर बना लें। इसे सुबह-शाम एक चम्मच सेवन करें। बवासीर में आराम मिलेगा।

सेंधा नमक

Photo: सेंधा नमक खाए और स्वस्थ रहिए :-

सेंधा नमक कितना फायदेमंद है जानिए –

प्राकृतिक  नमक हमारे शरीर के लिये बहुत जरूरी है। इसके बावजूद हम सब घटिया किस्म का आयोडिन मिला हुआ समुद्री नमक खाते है। यह शायद आश्चर्यजनक लगे , पर यह एक हकीकत है ।
नमक विशेषज्ञ का कहना है कि भारत मे अधिकांश लोग समुद्र से बना नमक खाते है जो की शरीर के लिए हानिकारक और जहर के समान है । समुद्री नमक तो अपने आप मे बहुत खतरनाक है लेकिन उसमे आयोडिन नमक मिलाकर उसे और जहरीला बना दिया जाता है , आयोडिन की शरीर मे मे अधिक मात्र जाने से नपुंसकता जैसा गंभीर रोग हो जाना मामूली बात है।
उत्तम प्रकार का नमक सेंधा नमक है, जो पहाडी नमक है ।  आयुर्वेद की बहुत सी दवाईयों मे सेंधा नमक का उपयोग होता है।आम तौर से उपयोग मे लाये जाने वाले समुद्री नमक से उच्च रक्तचाप ,डाइबिटीज़,लकवा आदि गंभीर बीमारियो का भय रहता है । इसके विपरीत सेंधा नमक के उपयोग से रक्तचाप पर नियन्त्रण रहता है । इसकी शुद्धता के कारण ही इसका उपयोग व्रत के भोजन मे होता है ।
ऐतिहासिक रूप से पूरे उत्तर भारतीय उपमहाद्वीप में खनिज पत्थर के नमक को 'सेंधा नमक' या 'सैन्धव नमक' कहा जाता है जिसका मतलब है 'सिंध या सिन्धु के इलाक़े से आया हुआ'। अक्सर यह नमक इसी खान से आया करता था। सेंधे नमक को 'लाहौरी नमक' भी कहा जाता है क्योंकि यह व्यापारिक रूप से अक्सर लाहौर से होता हुआ पूरे उत्तर भारत में बेचा जाता था।
भारत मे 1930 से पहले कोई भी समुद्री नमक नहीं खाता था विदेशी कंपनीया भारत मे नमक के व्यापार मे आज़ादी के पहले से उतरी हुई है ,उनके कहने पर ही भारत के अँग्रेजी प्रशासन द्वारा भारत की भोली भली जनता को आयोडिन मिलाकर समुद्री नमक खिलाया जा रहा है सिर्फ आयोडीन के चक्कर में ज्यादा नमक खाना समझदारी नहीं है,
क्योंकि आयोडीन हमें आलू, अरवी के साथ-साथ हरी सब्जियों से भी मिल जाता है। 
यह सफ़ेद और लाल रंग मे पाया जाता है । सफ़ेद रंग वाला नमक उत्तम होता है। यह ह्रदय के लिये उत्तम, दीपन और
पाचन मे मददरूप, त्रिदोष शामक, शीतवीर्य अर्थात ठंडी तासीर वाला, पचने मे हल्का है । इससे पाचक रस बढ़्ते हैं। रक्त विकार आदि के रोग जिसमे नमक खाने को मना हो उसमे भी इसका उपयोग किया जा सकता है। यह पित्त नाशक और आंखों के लिये हितकारी है । दस्त, कृमिजन्य रोगो और रह्युमेटिज्म मे काफ़ी उपयोगी होता है ।उत्तम प्रकार का नमक सेंधा नमक है, जो पहाडी नमक है । आयुर्वेद की बहुत सी दवाईयों मे सेंधा नमक का उपयोग होता है।आम तौर से उपयोग मे लाये जाने वाले समुद्री नमक से उच्च रक्तचाप ,डाइबिटीज़,लकवा आदि गंभीर बीमारियो का भय रहता है । इसके विपरीत सेंधा नमक के उपयोग से रक्तचाप पर नियन्त्रण रहता है । इसकी शुद्धता के कारण ही इसका उपयोग व्रत के भोजन मे होता है ।
ऐतिहासिक रूप से पूरे उत्तर भारतीय उपमहाद्वीप में खनिज पत्थर के नमक को 'सेंधा नमक' या 'सैन्धव नमक' कहा जाता है जिसका मतलब है 'सिंध या सिन्धु के इलाक़े से आया हुआ'। अक्सर यह नमक इसी खान से आया करता था। सेंधे नमक को 'लाहौरी नमक' भी कहा जाता है क्योंकि यह व्यापारिक रूप से अक्सर लाहौर से होता हुआ पूरे उत्तर भारत में बेचा जाता था।
भारत मे 1930 से पहले कोई भी समुद्री नमक नहीं खाता था विदेशी कंपनीया भारत मे नमक के व्यापार मे आज़ादी के पहले से उतरी हुई है ,उनके कहने पर ही भारत के अँग्रेजी प्रशासन द्वारा भारत की भोली भली जनता को आयोडिन मिलाकर समुद्री नमक खिलाया जा रहा है सिर्फ आयोडीन के चक्कर में ज्यादा नमक खाना समझदारी नहीं है,
क्योंकि आयोडीन हमें आलू, अरवी के साथ-साथ हरी सब्जियों से भी मिल जाता है। 
यह सफ़ेद और लाल रंग मे पाया जाता है । सफ़ेद रंग वाला नमक उत्तम होता है। यह ह्रदय के लिये उत्तम, दीपन और
पाचन मे मददरूप, त्रिदोष शामक, शीतवीर्य अर्थात ठंडी तासीर वाला, पचने मे हल्का है । इससे पाचक रस बढ़्ते हैं। रक्त विकार आदि के रोग जिसमे नमक खाने को मना हो उसमे भी इसका उपयोग किया जा सकता है। यह पित्त नाशक और आंखों के लिये हितकारी है । दस्त, कृमिजन्य रोगो और रह्युमेटिज्म मे काफ़ी उपयोगी होता है ।

बेल

Photo: बेल -
            बेल का वृक्ष बहुत प्राचीन है |यह लगभग २०-३० फुट ऊंचा होता है | इसके पत्ते जुड़े हुए त्रिफाक और गंधयुक्त होते हैं | इसका फल ३-४ इंच व्यास का गोलाकार और पीले रंग का होता है | बीज कड़े और छोटे होते हैं | बेल के फल का गूदा और बीज एक उत्तम विरेचक (पेट साफ़ करने वाले ) माने जाते हैं | बेल शर्करा को कम करने वाला,कफ व वात को शांत करने वाला,अतिसार, मधुमेह,रक्तार्श,श्वेत प्रदर व अति रज : स्राव को नष्ट करने वाला होता है | आइए जानते हैं बेल के औषधीय गुण -

१- पके हुए बेल का शर्बत  पुराने आंव की महाऔषधि है | इसके सेवन से संग्रहणी रोग बहुत जल्दी ही दूर हो जाता  है | 

२- बेल का मुरब्बा खाने से पित्त व अतिसार में लाभ होता है | पेट के सभी रोगों में बेल का  मुरब्बा खाने से लाभ मिलता है | 

३- दस ग्राम बेल के पत्तों को ४-५ कालीमिर्च के साथ पीसकर उसमे १० ग्राम मिश्री मिलकर शरबत बना लें | इसका दिन में तीन बार सेवन करने से पेट दर्द ठीक हो जाता है | 

४- बेल के गूदे को गुड़ मिलाकर सेवन करने से रक्तातिसार (खूनी दस्त ) के रोगी का रोग दूर हो जाता है | 

५- मिश्री मिले हुए दूध के साथ बेल की गिरी के चूर्ण का सेवन करने से, खून की कमी व शारीरिक दुर्बलता दूर होती है | 

६- बेल के पत्तों को पीसकर छान लें, इस १० मिलीलीटर रस के प्रतिदिन सेवन से मधुमेह में शर्करा आना कम हो जाती  हैं |बेल -
बेल का वृक्ष बहुत प्राचीन है |यह लगभग २०-३० फुट ऊंचा होता है | इसके पत्ते जुड़े हुए त्रिफाक और गंधयुक्त होते हैं | इसका फल ३-४ इंच व्यास का गोलाकार और पीले रंग का होता है | बीज कड़े और छोटे होते हैं | बेल के फल का गूदा और बीज एक उत्तम विरेचक (पेट साफ़ करने वाले ) माने जाते हैं | बेल शर्करा को कम करने वाला,कफ व वात को शांत करने वाला,अतिसार, मधुमेह,रक्तार्श,श्वेत प्रदर व अति रज : स्राव को नष्ट करने वाला होता है | आइए जानते हैं बेल के औषधीय गुण -

१- पके हुए बेल का शर्बत पुराने आंव की महाऔषधि है | इसके सेवन से संग्रहणी रोग बहुत जल्दी ही दूर हो जाता है |

२- बेल का मुरब्बा खाने से पित्त व अतिसार में लाभ होता है | पेट के सभी रोगों में बेल का मुरब्बा खाने से लाभ मिलता है |

३- दस ग्राम बेल के पत्तों को ४-५ कालीमिर्च के साथ पीसकर उसमे १० ग्राम मिश्री मिलकर शरबत बना लें | इसका दिन में तीन बार सेवन करने से पेट दर्द ठीक हो जाता है |

४- बेल के गूदे को गुड़ मिलाकर सेवन करने से रक्तातिसार (खूनी दस्त ) के रोगी का रोग दूर हो जाता है |

५- मिश्री मिले हुए दूध के साथ बेल की गिरी के चूर्ण का सेवन करने से, खून की कमी व शारीरिक दुर्बलता दूर होती है |

६- बेल के पत्तों को पीसकर छान लें, इस १० मिलीलीटर रस के प्रतिदिन सेवन से मधुमेह में शर्करा आना कम हो जाती हैं |

इमली-TAMARIND

Photo: इमली- 
            इमली से हम सब परिचित हैं | इमली के वृक्ष काफी ऊँचे होते हैं तथा सघन छायादार होने के कारण सडकों के किनारे भी इसके वृक्ष लगाए जाते हैं | इमली का वृक्ष उष्णकटिबंधीय अफ्रीका तथा मेडागास्कर का मूल निवासी है | वहां से यह भारत में आया और अब पूरे भारतवर्ष में प्राप्त होता है | यहाँ से ईरान तथा सऊदी अरब में पहुंचा जहाँ इसे तमार-ए-हिन्द (भारत का खजूर ) कहते हैं |इसका पुष्पकाल फ़रवरी से अप्रैल तथा फलकाल नवंबर से जनवरी तक होता है | इसके फल में शर्करा,टार्टरिक अम्ल,पेक्टिन,ऑक्जेलिक अम्ल तथा मौलिक अम्ल आदि तथा बीज में प्रोटीन,वसा,कार्बोहायड्रेट तथआ खनिज लवण प्राप्त होते हैं | यह कैल्शियम,लौह तत्व,विटामिन B ,C तथा फॉस्फोरस का अच्छा स्रोत है |आज हम आपको इमली के औषधीय गुणों से अवगत करा रहे हैं -

१- १० ग्राम इमली को एक गिलास पानी में भिगोकर,मसल-छानकर ,शक्कर मिलाकर पीने से सिर दर्द में लाभ होता है | 

२- इमली को पानी में डालकर ,अच्छी तरह मसल- छानकर कुल्ला करने से मुँह के छालों में लाभ होता है| 

३- १० ग्राम इमली को १ लीटर पानी में उबाल लें जब आधा रह जाए तो उसमे १० मिलीलीटर गुलाबजल मिलाकर,छानकर, कुल्ला करने से गले की सूजन ठीक होती है |

४-इमली के दस से पंद्रह ग्राम पत्तों को ४०० मिलीलीटर पानी में पकाकर ,एक चौथाई भाग शेष रहने पर छानकर पीने से आंवयुक्त दस्त में लाभ होता है | 

५- इमली की पत्तियों को पीसकर गुनगुना कर लेप लगाने से मोच में लाभ होता है | 

६-इमली के बीज को नींबू के रस में पीसकर लगाने से दाद में लाभ होता है |   

 ७- गर्मियों में ताजगी दायक पेय बनाने के लिए इमली को पानी में कुछ देर के लिए भिगोएँ व मसलकर इसका पानी छान लें। अब उसमें स्वादानुसार गुड़ या शक़्कर , नमक व भुना जीरा डाल लें। इसमें  ताजे पुदीने की पत्तियाँ स्फूर्ति की अनुभूति बढ़ाती हैं ,अतः ताजे पुदीने की पत्तियाँ भी इस पेय में डाली जा सकती हैं | 

नोट -- चूँकि इमली खट्टी होती है अतः इसे भिगोने के लिए कांच या मिट्टी के बर्तन का उपयोग किया जाना चाहिए |इमली- 
इमली से हम सब परिचित हैं | इमली के वृक्ष काफी ऊँचे होते हैं तथा सघन छायादार होने के कारण सडकों के किनारे भी इसके वृक्ष लगाए जाते हैं | इमली का वृक्ष उष्णकटिबंधीय अफ्रीका तथा मेडागास्कर का मूल निवासी है | वहां से यह भारत में आया और अब पूरे भारतवर्ष में प्राप्त होता है | यहाँ से ईरान तथा सऊदी अरब में पहुंचा जहाँ इसे तमार-ए-हिन्द (भारत का खजूर ) कहते हैं |इसका पुष्पकाल फ़रवरी से अप्रैल तथा फलकाल नवंबर से जनवरी तक होता है | इसके फल में शर्करा,टार्टरिक अम्ल,पेक्टिन,ऑक्जेलिक अम्ल तथा मौलिक अम्ल आदि तथा बीज में प्रोटीन,वसा,कार्बोहायड्रेट तथआ खनिज लवण प्राप्त होते हैं | यह कैल्शियम,लौह तत्व,विटामिन B ,C तथा फॉस्फोरस का अच्छा स्रोत है |आज हम आपको इमली के औषधीय गुणों से अवगत करा रहे हैं -

१- १० ग्राम इमली को एक गिलास पानी में भिगोकर,मसल-छानकर ,शक्कर मिलाकर पीने से सिर दर्द में लाभ होता है |

२- इमली को पानी में डालकर ,अच्छी तरह मसल- छानकर कुल्ला करने से मुँह के छालों में लाभ होता है|

३- १० ग्राम इमली को १ लीटर पानी में उबाल लें जब आधा रह जाए तो उसमे १० मिलीलीटर गुलाबजल मिलाकर,छानकर, कुल्ला करने से गले की सूजन ठीक होती है |

४-इमली के दस से पंद्रह ग्राम पत्तों को ४०० मिलीलीटर पानी में पकाकर ,एक चौथाई भाग शेष रहने पर छानकर पीने से आंवयुक्त दस्त में लाभ होता है |

५- इमली की पत्तियों को पीसकर गुनगुना कर लेप लगाने से मोच में लाभ होता है |

६-इमली के बीज को नींबू के रस में पीसकर लगाने से दाद में लाभ होता है |

७- गर्मियों में ताजगी दायक पेय बनाने के लिए इमली को पानी में कुछ देर के लिए भिगोएँ व मसलकर इसका पानी छान लें। अब उसमें स्वादानुसार गुड़ या शक़्कर , नमक व भुना जीरा डाल लें। इसमें ताजे पुदीने की पत्तियाँ स्फूर्ति की अनुभूति बढ़ाती हैं ,अतः ताजे पुदीने की पत्तियाँ भी इस पेय में डाली जा सकती हैं |

नोट -- चूँकि इमली खट्टी होती है अतः इसे भिगोने के लिए कांच या मिट्टी के बर्तन का उपयोग किया जाना चाहिए |

करेला,KARELA

Photo: करेला -
             करेला के गुणों से सब परिचित हैं |
मधुमेह के रोगी विशेषतः इसके रस और सब्जी का सेवन करते हैं | समस्त भारत में इसकी खेती की जाती है | इसके पुष्प चमकीले पीले रंग के होते हैं | इसके फल ५-२५ सेमी लम्बे,५ सेमी व्यास के,हरे रंग के,बीच में मोटे,सिरों पर नुकीले,कच्ची अवस्था में हरे तथा पक्वावस्था में पीले वर्ण के होते हैं | इसके बीज ८-१३ मिमी लम्बे,चपटे तथा दोनों पृष्ठों पर खुरदुरे होते हैं जो पकने पर लाल हो जाते हैं | इसका पुष्पकाल एवं फलकाल जून से अक्टूबर तक होता है | आज हम आपको करेले के कुछ औषधीय प्रयोगों से अवगत कराएंगे -

१- करेले के ताजे फलों अथवा पत्तों को कूटकर रस निकालकर गुनगुना करके १-२ बूँद कान में डालने से कान-दर्द लाभ होता है | 

२- करेले के रस में सुहागा की खील मिलाकर लगाने से मुँह के छाले मिटते हैं | 

३-सूखे करेले को सिरके में पीसकर गर्म करके लेप करने से कंठ की सूजन मिटती है ।

४- १०-१२ मिली करेला पत्र स्वरस पिलाने से पेट के कीड़े मर जाते हैं | 

५- करेला के फलों को छाया शुष्क कर महीन चूर्ण बनाकर रखें | ३-६ ग्राम की मात्रा में जल या शहद के साथ सेवन करना चाहिए | मधुमेह में यह उत्तम कार्य करता है | यह अग्नाशय को उत्तेजित कर इन्सुलिन के स्राव को बढ़ाता है | 

 ६- १०-१५ मिली करेला फल स्वरस या पत्र स्वरस में राई और नमक बुरक कर पिलाने से गठिया में लाभ होता है | 

७- करेला पत्र स्वरस को दाद पर लगाने से लाभ होता है | इसे पैरों के तलवों पर लेप करने से दाह का शमन होता है|  

८- करेले के १०-१५ मिली रस में जीरे का चूर्ण मिलाकर दिन में तीन बार पिलाने से शीत-ज्वर में लाभ होता है |करेला -
करेला के गुणों से सब परिचित हैं |
मधुमेह के रोगी विशेषतः इसके रस और सब्जी का सेवन करते हैं | समस्त भारत में इसकी खेती की जाती है | इसके पुष्प चमकीले पीले रंग के होते हैं | इसके फल ५-२५ सेमी लम्बे,५ सेमी व्यास के,हरे रंग के,बीच में मोटे,सिरों पर नुकीले,कच्ची अवस्था में हरे तथा पक्वावस्था में पीले वर्ण के होते हैं | इसके बीज ८-१३ मिमी लम्बे,चपटे तथा दोनों पृष्ठों पर खुरदुरे होते हैं जो पकने पर लाल हो जाते हैं | इसका पुष्पकाल एवं फलकाल जून से अक्टूबर तक होता है | आज हम आपको करेले के कुछ औषधीय प्रयोगों से अवगत कराएंगे -

१- करेले के ताजे फलों अथवा पत्तों को कूटकर रस निकालकर गुनगुना करके १-२ बूँद कान में डालने से कान-दर्द लाभ होता है |

२- करेले के रस में सुहागा की खील मिलाकर लगाने से मुँह के छाले मिटते हैं |

३-सूखे करेले को सिरके में पीसकर गर्म करके लेप करने से कंठ की सूजन मिटती है ।

४- १०-१२ मिली करेला पत्र स्वरस पिलाने से पेट के कीड़े मर जाते हैं |

५- करेला के फलों को छाया शुष्क कर महीन चूर्ण बनाकर रखें | ३-६ ग्राम की मात्रा में जल या शहद के साथ सेवन करना चाहिए | मधुमेह में यह उत्तम कार्य करता है | यह अग्नाशय को उत्तेजित कर इन्सुलिन के स्राव को बढ़ाता है |

६- १०-१५ मिली करेला फल स्वरस या पत्र स्वरस में राई और नमक बुरक कर पिलाने से गठिया में लाभ होता है |

७- करेला पत्र स्वरस को दाद पर लगाने से लाभ होता है | इसे पैरों के तलवों पर लेप करने से दाह का शमन होता है|

८- करेले के १०-१५ मिली रस में जीरे का चूर्ण मिलाकर दिन में तीन बार पिलाने से शीत-ज्वर में लाभ होता है |