Wednesday, June 25, 2014

How Do Microwaves Cook Food?

Microwave ovens cook food incredibly fast, warming up refrigerated leftovers in minutes or less. But how does this great invention work?
Here, we explore the science behind one of the most revolutionary household appliances of the 20th century.

Microwaves Are A Form Of Energy

Microwaves are electromagnetic waves that fly through space at the speed of light. We can't see microwaves, but if you could, you would see the microwave cooking chamber light up with an intense glow.
Microwaves are shorter than radio waves but longer than infrared radiation. The microwave used for cooking is about 12 centimeters from crest to crest, says Louis Bloomfield, a professor of physics at the University of Virginia. At this wavelength, microwaves are readily absorbed by most foods. But the particles in a microwave, known as photons, don't have enough energy to damage molecules and cause cancer like ultraviolet rays or X-rays.
800px BW_EM_spectrum
Microwaves are sandwiched between radio waves and infrared light on the electromagnetic spectrum. The microwaves used in cooking around 12 centimeters, or a little wider than the diameter of a baseball.


The Microwave Oven

A component called the magnetron generates microwaves from electricity inside the microwave oven. To
power the magnetron, a transformer converts the standard household electricity from a wall socket of 120 volts to about 4,000 volts or higher. The voltage heats a filament at the center of the magnetron, boiling off electrons.
microwave
Electrons are emitted as the filament heats up.

The electrons would rush out in straight line toward an anode, or positive terminal, that surrounds the filament, but two ring magnets above and below the anode bend the electrons back toward the filament and they fly around in a circular path.

microwave a
Magnets bend the electrons back toward the filament in a curved path.

Microwaves are created as the electrons whip past cavities, or openings, in the anode.

microwave b
Cavities in the ring-shaped anode create a microwave "whistle" as the electrons blow past.

"It's like blowing across the top of a glass bottle," says Bob Schiffmann, president of the International Microwave Power Institute. But instead of producing a sound whistle, oscillating waves are generated at a specific frequency, typically 2.45 gigahertz. The microwaves are transmitted into the cooking compartment by an antenna where they are bounced around eventually penetrating the food.

The microwave door contains a metal mesh that reflects the microwaves like a mirror and keeps them from leaking out. The mesh holes are too small for microwaves to escape through but large enough that visible light can, so we can see what's cooking inside.

Most microwaves have a glass turntable that moves the food around like a carousel so that it heats evenly. If the food wasn't being rotated, parts of your meal would get stuck in the microwave's hot and cold spots.
Microwave Diagram_04
Mike Nudelman/Business Insider


How Microwaves Cook Food

When you hit the start button "it usually takes about 2 seconds to heat up a filament inside the magnetron tube," says Schiffmann. The microwaves are then blasted into the food compartment.
The commonly used frequency of microwaves, 2.45 gigahertz, is easily absorbed by water, fat, and sugar. Says Bloomfield: "The waves are at the right frequency to penetrate deep into food and they deliver cooking power primarily to the food's water content. Water-free solids barely absorb microwaves." That's why microwave-safe containers don't get as hot as the food inside them.
Microwaves heat food, like a cup of coffee or a slice of lasagna, by twisting water molecules back and forth. Water molecules are positively charged at one end and negatively charged at the other. A single water molecule looks like Mickey Mouse's head, says Bloomfield. You can think of the negatively charged oxygen atom as Mickey's face and the two smaller positively charged hydrogen atoms as Mickey's ears.
The positively charged end of the water molecule tries to align itself with the microwave's electric field while the negatively charged end points the other way. But because the field reverses 2.5 billion times a second, Mickey's ears and face are being twisted back and forth rapidly.
As the molecules twist back and forth, they rub into each other. This creates friction, which produces heat.
water molecules
A single water molecule has a negative and positive charge at both ends.

A microwave cooks food much faster than a conventional oven because it heats both the inside and outside of the food the same time, says Schiffmann. A conventional oven or frying pan heats the surface of the food first and the heat gradually moves toward the center. Because the air inside the microwave oven is room temperature, foods don't get brown or crispy as they would with other forms of cooking.

-From business insider.

Tuesday, June 24, 2014

OCCASIONAL WINE,COCKTAIL,LIMITED AMOUNT ON WEEKENDS


Dark and Stormy, with Extra StormGinger brew and rum are a match made in heaven—we love this classic cocktail even in sunny weather. Lemon, lime, and candied ginger make for a very well-rounded drink.
 
EXTRA STORMY DARK AND STORMY
Ingredients:
2 oz. dark rum
Club soda
Lime wedge and candied ginger (for serving)
Preparation:
 
 
 
Combine Lemon-Ginger Brew and rum in a highball glass filled with ice, then top off with club soda. Garnish with lime wedge and candied ginger.
 
Alexis’ Bordeaux Sour
Warm-Weather Whiskey CocktailsInspired by a cocktail at New York’s Lafayette restaurant, this twist on a classic whiskey sour gets its fruity flavor and rosy color from muddled maraschino cherries and Lillet Rouge, the fruity red French apéritif wine enhanced with citrus and spices.
MAKES 1 COCKTAIL

INGREDIENTS
1 oz. lemon juice
1 tbsp. maple syrup
2 maraschino cherries, plus more for garnish
2 oz. whiskey
1 oz. Lillet Rouge
1 egg white
5 dashes orange bitters
1 oz. seltzer

INSTRUCTIONS
Muddle lemon juice, maple syrup, and cherries in a cocktail shaker. Add whiskey, Lillet Rouge, egg white, bitters, and ice; shake vigorously and strain into an old fashioned glass filled with ice. Top with seltzer and garnish with a cherry.

Pawleys Rum Punch

Contributor Marshall Bright's father makes this boozy fruit punch for the family every year during their annual beach vacation in Pawleys Island, South Carolina. A sprinkle of fresh nutmeg on top compliments the molasses-like flavor of the rum. Use freshly squeezed orange juice—it adds a bright flavor the bottled stuff can't match.

Ingredients

1 oz. cranberry juice
1 oz. fresh orange juice
1 oz. pineapple juice
1 oz. dark rum
1 oz. gold rum
Freshly grated nutmeg, for garnish 

Instructions

Combine ingredients in a cocktail shaker filled with ice; shake vigorously and strain into a punch glass. Top with grated nutmeg.

Plymouth Gin Tonic

Historically a two-ingredient drink garnished minimally with a simple lime wedge, the gin and tonic is today the subject of a creative renaissance.
MAKES 1 COCKTAIL

INGREDIENTS

3 strawberries
⅛ tsp. freshly ground black pepper
1½ oz. navy-strength gin
4 oz. tonic 
INSTRUCTIONS-Muddle 2 strawberries and ⅛ tsp. freshly ground black pepper in a shaker; pour into an ice-filled goblet. Stir in 1½ oz. navy-strength gin. Top with 4 oz. tonic; garnish with a strawberry
 
Hierba Gin and Tonic
Hierba Gin and TonicMAKES 1 COCKTAIL

INGREDIENTS

1½ oz. dry gin
1½ oz. tonic syrup
4 oz. club soda
1 lime wheel, for garnish
1 strip orange zest, for garnish
1 sprig rosemary, for garnish

INSTRUCTIONS

Combine 1½ oz. each dry gin and tonic syrup in a wine glass with 1 large ice cube. Add 4 oz. club soda; garnish with 3 whole pink peppercorns, plus lime wheel, orange peel, and rosemary sprig.
 
 The Little Devil CocktailThe Little Devil MAKES 1 COCKTAIL

INGREDIENTS

2 tbsp. smoked salt
2 tbsp. sugar
½ cup simple syrup
1½ oz. ancho chile liqueur, such as Ancho Reyes
½ oz. mezcal
½ oz. tequila
¾ oz. cherry liqueur, such as Combier
¾ oz. lime juice
¼ oz. agave
3 brandied cherries, for garnish

INSTRUCTIONS

1. Combine salt and sugar in a food processor and pulse until fine; place in a bowl and set aside. Dip the rim of a rocks glass in simple syrup, then into salt mixture; set aside.

2. Combine ancho chile liqueur, mezcal, tequila, cherry liqueur, lime juice, and agave in a cocktail shaker filled with ice; shake vigorously and strain into prepared glass filled with ice. Garnish with cherries.
 
SEE MORE AT - Cocktail party drinks
 
 
 

Broccoli-Detox

new study published in the journal “Cancer Prevention Research” has officially caught our attention.
The Best Detox-y Broccoli DishesResearchers found that subjects who each day slurped down a drink made with broccoli sprouts—two to three-day-old broccoli seedlings—were more likely than the placebo group to, ahem, filter out high levels of the harmful chemicals benzene and acrolein. (Benzene is associated with pollution, and both benzene and acrolein can be found in cigarette smoke.)
Keep in mind that broccoli sprouts have a greater concentration of the active ingredient—glucoraphanin, which when chewed or swallowed conjures a compound called sulforaphane that actives pollutant-fighting enzymes—than mature broccoli (the stuff you’re used to seeing at the grocery store) contains. When mature broccoli is cooked, the amount of glucoraphanin goes down even further.
But that doesn’t mean you should chuck your steamed broccoli out the window.
"Any amount of broccoli that you eat is probably a good thing,"
But that doesn’t mean you should chuck your steamed broccoli out the window.
"Any amount of broccoli that you eat is probably a good thing,"
 

Monday, June 23, 2014

मुलेठी (यष्टीमधु ) -MULETHI

मुलेठी (यष्टीमधु ) -
      मुलेठी से हम सब परिचित हैं | भारतवर्ष में इसका उत्पादन कम ही होता है | यह अधिकांश रूप से विदेशों से आयातित की जाती है| मुलेठी की जड़ एवं सत सर्वत्र बाज़ारों में पंसारियों के यहाँ मिलता है | चरकसंहिता में रसायनार्थ यष्टीमधु का प्रयोग विशेष रूप से वर्णित है | सुश्रुत संहिता में यष्टिमधु फल का प्रयोग विरेचनार्थ मिलता है | मुलेठी रेशेदार,गंधयुक्त तथा बहुत ही उपयोगी होती है | यह ही एक ऐसी वस्तु है जिसका सेवन किसी भी मौसम में किया जा सकता है | मुलेठी वातपित्तशामक है | यह खाने में ठंडी होती है | इसमें ५० प्रतिशत पानी होता है | इसका मुख्य घटक ग्लीसराइज़ीन है जिसके कारण ये खाने में मीठा होता है | इसके अतिरिक्त इसमें घावों को भरने वाले विभिन्न घटक भी मौजूद हैं | मुलेठी खांसी,जुकाम,उल्टी व पित्त को बंद करती है | यह पेट की जलन व दर्द,पेप्टिक अलसर तथा इससे होने वाली खून की उल्टी में भी बहुत उपयोगी है | 
                           आज हम आपको मुलेठी के कुछ औषधीय गुणों से अवगत कराएंगे -

१- मुलेठी चूर्ण और आंवला चूर्ण २-२ ग्राम की मात्रा में मिला लें | इस चूर्ण को दो चम्मच शहद मिलाकर सुबह- शाम चाटने से खांसी में बहुत लाभ होता है |

२- मुलेठी-१० ग्राम 
     काली मिर्च -१० ग्राम 
     लौंग    -०५ ग्राम 
      हरड़   -०५ ग्राम
     मिश्री - २० ग्राम 
     ऊपर दी गयी सारी सामग्री को मिलाकर पीस लें | इस चूर्ण में से एक चम्मच चूर्ण सुबह शहद के साथ चाटने से पुरानी खांसी और जुकाम,गले की खराबी,सिर दर्द आदि रोग दूर हो जाते हैं | 

३- एक चम्मच मुलेठी का चूर्ण एक कप दूध के साथ लेने से पेशाब की जलन दूर हो जाती है | 

४- मुलेठी को मुहं में रखकर चूंसने से मुहँ के छाले मिटते हैं तथा स्वर भंग (गला बैठना) में लाभ होता है | 

५- एक चम्मच मुलेठी चूर्ण में शहद मिलाकर दिन में तीन बार सेवन करने से पेट और आँतों की ऐंठन व दर्द का शमन होता है | 

६- फोड़ों पर मुलेठी का लेप लगाने से वो जल्दी पक कर फूट जाते हैं |मुलेठी (यष्टीमधु ) -
मुलेठी से हम सब परिचित हैं | भारतवर्ष में इसका उत्पादन कम ही होता है | यह अधिकांश रूप से विदेशों से आयातित की जाती है| मुलेठी की जड़ एवं सत सर्वत्र बाज़ारों में पंसारियों के यहाँ मिलता है | चरकसंहिता में रसायनार्थ यष्टीमधु का प्रयोग विशेष रूप से वर्णित है | सुश्रुत संहिता में यष्टिमधु फल का प्रयोग विरेचनार्थ मिलता है | मुलेठी रेशेदार,गंधयुक्त तथा बहुत ही उपयोगी होती है | यह ही एक ऐसी वस्तु है जिसका सेवन किसी भी मौसम में किया जा सकता है | मुलेठी वातपित...्तशामक है | यह खाने में ठंडी होती है | इसमें ५० प्रतिशत पानी होता है | इसका मुख्य घटक ग्लीसराइज़ीन है जिसके कारण ये खाने में मीठा होता है | इसके अतिरिक्त इसमें घावों को भरने वाले विभिन्न घटक भी मौजूद हैं | मुलेठी खांसी,जुकाम,उल्टी व पित्त को बंद करती है | यह पेट की जलन व दर्द,पेप्टिक अलसर तथा इससे होने वाली खून की उल्टी में भी बहुत उपयोगी है |
आज हम आपको मुलेठी के कुछ औषधीय गुणों से अवगत कराएंगे -

१- मुलेठी चूर्ण और आंवला चूर्ण २-२ ग्राम की मात्रा में मिला लें | इस चूर्ण को दो चम्मच शहद मिलाकर सुबह- शाम चाटने से खांसी में बहुत लाभ होता है |
२- मुलेठी-१० ग्राम
काली मिर्च -१० ग्राम
लौंग -०५ ग्राम
हरड़ -०५ ग्राम
मिश्री - २० ग्राम
ऊपर दी गयी सारी सामग्री को मिलाकर पीस लें | इस चूर्ण में से एक चम्मच चूर्ण सुबह शहद के साथ चाटने से पुरानी खांसी और जुकाम,गले की खराबी,सिर दर्द आदि रोग दूर हो जाते हैं |
३- एक चम्मच मुलेठी का चूर्ण एक कप दूध के साथ लेने से पेशाब की जलन दूर हो जाती है |
४- मुलेठी को मुहं में रखकर चूंसने से मुहँ के छाले मिटते हैं तथा स्वर भंग (गला बैठना) में लाभ होता है |
५- एक चम्मच मुलेठी चूर्ण में शहद मिलाकर दिन में तीन बार सेवन करने से पेट और आँतों की ऐंठन व दर्द का शमन होता है |
६- फोड़ों पर मुलेठी का लेप लगाने से वो जल्दी पक कर फूट जाते हैं |
 

Saturday, June 21, 2014

FACTS ABOUT FISH, SEAFOOD- DANGEROUS MERCURY

Watch this small video regarding sea-foods, which people see safe and recommended by Doctors everyday.

Once you are done , please watch small video regarding bleak future of Earth's living creature as Forest is on artificial oxygen- INCREDIBLE RAIN FOREST IS LOOSING LIFE



Sunday, June 15, 2014

NEEM, THE GREEN GOLD

The Neem trees (Azdirachta Indica) have started to flower all over India. 
 Since American firms such as WR Grace et Agridyne, have tried to patent Neem, the Indian Govt may have started realising that they may be sitting on a pile of gold. Or have they? Every third shop today in India is an allopathic medical store. Neem is one of the most neglected, underused, overlooked trees in India. Yet its properties are unique: its bark is wonderful against malaria and sometimes even early cancer; its oil extracted from its seeds and fruits is an excellent natural pesticide that has been used effectively to protect cashew nut flowers against insects (instead of the deadly pesticides that Tamil Nadu & Kerala farmers indiscriminately spray repeatedly). Its leaves, its seeds, its small branches, have unique medical properties that used to be known in India millenniums ago. “Neem is Shakti”, says Sri Sri Ravi Shankar, for it discriminates. An antibiotic kills the good and bad microbes, whereas neem only eliminates the bad and spares the good”.
Here a few simple easy to do yourself recipes:
1)    Pick up about 20 young neem leaves early morning, wash them under the tap and put them in a blender with a glass of fresh (or mineral) water. Blend for 3 or 4 minutes. Strain it and drink that wonderful deep green juice before breakfast (for those who find it too bitter, add some liquid jagry). It keeps away worms and amoebas, clears your blood and is good for the liver.
2)    Enema has become a dirty word today, but it’s a highly effective way of cleaning one’s intestines and getting rid of the poison that accumulates there, specially for the non-veg people. Pick up in the evening 2 or three whole young branches of neem. Wash them under the tap and boil them whole for an hour. Keep it covered for the whole night so it soaks well. You can administer yourself the enema in the morning in your own bathroom with a simple device that is cheap and easy to find in pharmacies. I recommend at least 3 repeats, 2 days in a row, four or five times a year.
3)    Pick up the seeds of the neem tree, dry them in the sun and put them in a blender with one or two block of rock salt. The brown powder that comes out is an excellent toothpaste, that is not only good for the teeth because of its antiseptic properties, but rubbed gently on the gums, protect & strengthen them, something that modern toothpastes do not do.
 Adds on Indian TV, promoting some rubbish toothpaste or some miracle whitener (why do Indian girls crave for whiteness, when brown is so sexy and westerners spend billions in creams to get brown on their beaches?), it makes me mad. India has so much ancient medical knowledge still alive in Ayurveda and simple rural remedies such as neem, tulsi, oe Aloe Vera. We do hope that the craze for westernization that was also part of the Congress and Sonia Gandhi’s brief, will metamorphose in a return to the ancient roots with Mr Modi, while adopting all that is good in the West.

अशोक -

Photo: अशोक -
               यह भारतीय वनौषधियों में एक दिव्य रत्न है | भारतवर्ष में इसकी कीर्ति का गान बहुत प्राचीनकाल से हो रहा है | प्राचीनकाल में शोक को दूर करने  और प्रसन्नता के लिए अशोक वाटिकाओं एवं उद्यानों का प्रयोग होता था और इसी आश्रय से इसके नाम शोकनाश ,विशोक,अपशोक आदि रखे गए हैं| सनातनी वैदिक लोग तो इस पेड़  को पवित्र एवं आदरणीय मानते ही हैं ,किन्तु बौद्ध भी इसे विशेष आदर की दॄष्टि से देखते हैं क्यूंकि कहा जाता है की भगवानबुद्ध का जन्म अशोक वृक्ष के नीचे हुआ था | अशोक के वृक्ष भारतवर्ष में सर्वत्र बाग़ बगीचों में तथा सड़कों के किनारे सुंदरता के लिए लगाए जाते हैं | भारत के हिमालयी क्षेत्रों तथा पश्चिमी प्रायद्वीप में ७५० मीटर की ऊंचाई पर मुख्यतः पूर्वी बंगाल, बिहार,उत्तराखंड,कर्नाटक एवं महाराष्ट्र में साधारणतया नहरों के किनारे व सदाहरित  वनों में पाया जाता है| मुख्यतया अशोक की दो प्रजातियां होती हैं ,जिनका प्रयोग चिकित्सा के लिए किया जाता है | 
      आज हम आपको अशोक के कुछ औषधीय गुणों से अवगत कराएंगे -

१- श्वास - ६५ मिलीग्राम अशोक बीज चूर्ण को पान के बीड़े में रखकर खिलने से श्वास रोग में लाभ होता है | 

२- रक्तातिसार- अशोक के तीन-चार ग्राम फूलों को जल में पीस कर पिलाने से रक्तातिसार (खूनी दस्त ) में लाभ होता है | 

३- रक्तार्श ( बवासीर )- अशोक की  छाल और इसके फूलों को बराबर की मात्रा में ले कर दस ग्राम मात्रा को रात्रि में एक गिलास पानी में भिगोकर रख  दें , सुबह पानी छान कर पी लें इसी प्रकार सुबह का भिगोया हुआ शाम को पी लें ,इससे खूनी बवासीर में शीघ्र लाभ मिलता है |
४- अशोक के १-२ ग्राम बीज को पानी में पीस कर दो चम्मच की मात्रा में पीस कर पीने से पथरी के दर्द में आराम मिलता है | 

५-प्रदर - अशोक छाल चूर्ण और मिश्री को संभाग खरल कर , तीन ग्राम की मात्रा में लेकर गो-दुग्ध प्रातः -सायं सेवन करने से श्वेत -प्रदर में लाभ होता है | 
अशोक के २-३ ग्राम फूलों को जल में पीस कर पिलाने से रक्तप्रदर में लाभ होता है |

अशोक -
यह भारतीय वनौषधियों में एक दिव्य रत्न है | भारतवर्ष में इसकी कीर्ति का गान बहुत प्राचीनकाल से हो रहा है | प्राचीनकाल में शोक को दूर करने और प्रसन्नता के लिए अशोक वाटिकाओं एवं उद्यानों का प्रयोग होता था और इसी आश्रय से इसके नाम शोकनाश ,विशोक,अपशोक आदि रखे गए हैं| सनातनी वैदिक लोग तो इस पेड़ को पवित्र एवं आदरणीय मानते ही हैं ,किन्तु बौद्ध भी इसे विशेष आदर की दॄष्टि से देखते हैं क्यूंकि कहा जाता है की भगवानबुद्ध का जन्म अशोक वृक्ष के नीचे हुआ था | अशोक के वृक्ष भारतवर्ष में सर्वत्र बाग़ बगीचों में तथा सड़कों के किनारे सुंदरता के लिए लगाए जाते हैं | भारत के हिमालयी क्षेत्रों तथा पश्चिमी प्रायद्वीप में ७५० मीटर की ऊंचाई पर मुख्यतः पूर्वी बंगाल, बिहार,उत्तराखंड,कर्नाटक एवं महाराष्ट्र में साधारणतया नहरों के किनारे व सदाहरित वनों में पाया जाता है| मुख्यतया अशोक की दो प्रजातियां होती हैं ,जिनका प्रयोग चिकित्सा के लिए किया जाता है |
आज हम आपको अशोक के कुछ औषधीय गुणों से अवगत कराएंगे -

१- श्वास - ६५ मिलीग्राम अशोक बीज चूर्ण को पान के बीड़े में रखकर खिलने से श्वास रोग में लाभ होता है |

२- रक्तातिसार- अशोक के तीन-चार ग्राम फूलों को जल में पीस कर पिलाने से रक्तातिसार (खूनी दस्त ) में लाभ होता है |

३- रक्तार्श ( बवासीर )- अशोक की छाल और इसके फूलों को बराबर की मात्रा में ले कर दस ग्राम मात्रा को रात्रि में एक गिलास पानी में भिगोकर रख दें , सुबह पानी छान कर पी लें इसी प्रकार सुबह का भिगोया हुआ शाम को पी लें ,इससे खूनी बवासीर में शीघ्र लाभ मिलता है |
४- अशोक के १-२ ग्राम बीज को पानी में पीस कर दो चम्मच की मात्रा में पीस कर पीने से पथरी के दर्द में आराम मिलता है |

५-प्रदर - अशोक छाल चूर्ण और मिश्री को संभाग खरल कर , तीन ग्राम की मात्रा में लेकर गो-दुग्ध प्रातः -सायं सेवन करने से श्वेत -प्रदर में लाभ होता है |
अशोक के २-३ ग्राम फूलों को जल में पीस कर पिलाने से रक्तप्रदर में लाभ होता है |

उड़द -

Photo: उड़द -
           उड़द का उपयोग दाल के रूप में प्रायः समस्त भारतवर्ष में किया जाता है । इसकी दाल व बाजरे की रोटी मेहनती लोगों का प्रिय भोजन है| उड़द काली व हरी कई प्रकार की होती है | सब प्रकार की उड़दों में काली उड़द उत्तम मानी गयी है। वैद्यक ग्रंथो में अनेक पौष्टिक प्रयोगों में उड़द की प्रशंसा की गयी है | यह दाल वायुकारक होती है | इसके इस दोष को दूर करने के लिए इसमें हींग पर्याप्त मात्रा में डालना चाहिए| दूध देने वाली गाय या भैंस को उड़द खिलाने से ये दूध अधिक मात्रा में देती हैं | इसके पत्तों और डंडी का चूरा भी पशुओं को खिलाया जाता है | 
                                                                                                     उड़द एक पौष्टिक दाल है | यह पित्त और कफ को बढ़ाता है | उड़द को अपनी पाचन शक्ति को ध्यान में रखते हुए उपयोग करना चाहिए | विभिन्न रोगों में उड़द का उपयोग -

१- उड़द की दाल को पानी में भिगो लें | जब यह पूरी तरह फूल जाए तब इसको पीसकर सिर पर लेप की तरह लगाने से सिर का दर्द दूर हो जाता है | 

२- साबुत उड़द जले हुए कोयले पर डालें और इसका धुआं सूंघें | इससे हिचकी रोग ठीक हो जाता है | 

३- उड़द को पीसकर घाव के ऊपर बाँधने से पस निकल जाती है तथा घाव ठीक हो जाता है | 

४- उड़द के आटे में थोड़ी सौंठ,थोड़ा नमक,और थोड़ी हींग मिलाकर उसकी रोटी बनाकर एक तरफ से सेंक लें और उसको उतारकर कच्चे भाग की तरफ तिल का तेल लगाकर वेदनायुक्त स्थान पर बाँधने से वेदना का शमन होता है | 

५- रात को ५० ग्राम उड़द की दाल भिगो दें |  सुबह इसे पीसकर आधा गिलास दूध में स्वादानुसार मिश्री मिलाकर पियें | यह हृदय को शक्ति देता है |

उड़द -
उड़द का उपयोग दाल के रूप में प्रायः समस्त भारतवर्ष में किया जाता है । इसकी दाल व बाजरे की रोटी मेहनती लोगों का प्रिय भोजन है| उड़द काली व हरी कई प्रकार की होती है | सब प्रकार की उड़दों में काली उड़द उत्तम मानी गयी है। वैद्यक ग्रंथो में अनेक पौष्टिक प्रयोगों में उड़द की प्रशंसा की गयी है | यह दाल वायुकारक होती है | इसके इस दोष को दूर करने के लिए इसमें हींग पर्याप्त मात्रा में डालना चाहिए| दूध देने वाली गाय या भैंस को उड़द खिलाने से ये दूध अधिक मात्रा में देती हैं | ...इसके पत्तों और डंडी का चूरा भी पशुओं को खिलाया जाता है |
उड़द एक पौष्टिक दाल है | यह पित्त और कफ को बढ़ाता है | उड़द को अपनी पाचन शक्ति को ध्यान में रखते हुए उपयोग करना चाहिए | विभिन्न रोगों में उड़द का उपयोग -

१- उड़द की दाल को पानी में भिगो लें | जब यह पूरी तरह फूल जाए तब इसको पीसकर सिर पर लेप की तरह लगाने से सिर का दर्द दूर हो जाता है |

२- साबुत उड़द जले हुए कोयले पर डालें और इसका धुआं सूंघें | इससे हिचकी रोग ठीक हो जाता है |

३- उड़द को पीसकर घाव के ऊपर बाँधने से पस निकल जाती है तथा घाव ठीक हो जाता है |

४- उड़द के आटे में थोड़ी सौंठ,थोड़ा नमक,और थोड़ी हींग मिलाकर उसकी रोटी बनाकर एक तरफ से सेंक लें और उसको उतारकर कच्चे भाग की तरफ तिल का तेल लगाकर वेदनायुक्त स्थान पर बाँधने से वेदना का शमन होता है |

५- रात को ५० ग्राम उड़द की दाल भिगो दें | सुबह इसे पीसकर आधा गिलास दूध में स्वादानुसार मिश्री मिलाकर पियें | यह हृदय को शक्ति देता है |

शहतूत -

Photo: शहतूत -
             यह मूलतः चीन में पाया जाता है | यह साधारणतया जापान ,नेपाल,पाकिस्तान,बलूचिस्तान ,अफगानिस्तान ,श्रीलंका,वियतनाम तथा सिंधु के उत्तरी भागों में पाया जाता है | भारत में यह पंजाब,कश्मीर,उत्तराखंड,उत्तर प्रदेश एवं उत्तरी पश्चिमी हिमालय में पाया जाता है | इसकी दो प्रजातियां पायी जाती हैं | १- तूत (शहतूत) २-तूतड़ी | 
                              इसके फल लगभग २.५ सेंटीमीटर लम्बे,अंडाकार अथवा लगभग गोलाकार ,श्वेत अथवा पक्वावस्था में लगभग हरिताभ-कृष्ण अथवा  गहरे बैंगनी वर्ण के होते हैं | इसका पुष्पकाल एवं फलकाल जनवरी से जून तक होता है | इसके फल में प्रोटीन,वसा,कार्बोहायड्रेट,खनिज,कैल्शियम,फॉस्फोरस,कैरोटीन ,विटामिन A ,B एवं C,पेक्टिन,सिट्रिक अम्ल एवं मैलिक अम्ल पाया जाता है |आज हम आपको शहतूत के औषधीय गुणों से अवगत कराएंगे -

१- शहतूत के पत्तों का काढ़ा बनाकर गरारे करने से गले के दर्द में आराम होता है । 

२- यदि मुँह में छाले हों तो शहतूत के पत्ते चबाने से लाभ होता है | 

३- शहतूत के फलों का सेवन करने से गले की सूजन ठीक होती है | 

४- पांच - दस मिली शहतूत फल स्वरस का सेवन करने से जलन,अजीर्ण,कब्ज,कृमि तथा अतिसार में अत्यंत लाभ होता है | 

५- एक ग्राम शहतूत छाल के चूर्ण में शहद मिलाकर चटाने से पेट के कीड़े निकल जाते हैं | 

६- शहतूत के बीजों को पीस कर लगाने से पैरों की बिवाईयों में लाभ होता है | 

७- शहतूत के पत्तों को पीसकर लेप करने से त्वचा की बीमारियों में लाभ होता है|  
८- सूखे हुए शहतूत के फलों को पीसकर आटे में मिलाकर उसकी रोटी बनाकर खाने से शरीर पुष्ट होता है |#watchAasthaChannel5amTo8am


शहतूत -
यह मूलतः चीन में पाया जाता है | यह साधारणतया जापान ,नेपाल,पाकिस्तान,बलूचिस्तान ,अफगानिस्तान ,श्रीलंका,वियतनाम तथा सिंधु के उत्तरी भागों में पाया जाता है | भारत में यह पंजाब,कश्मीर,उत्तराखंड,उत्तर प्रदेश एवं उत्तरी पश्चिमी हिमालय में पाया जाता है | इसकी दो प्रजातियां पायी जाती हैं | १- तूत (शहतूत) २-तूतड़ी |
इसके फल लगभग २.५ सेंटीमीटर लम्बे,अंडाकार अथवा लगभग गोलाकार ,श्वेत अथवा पक्वावस्था में लगभग हरिताभ-कृष्ण अथवा गहरे बैंगन...ी वर्ण के होते हैं | इसका पुष्पकाल एवं फलकाल जनवरी से जून तक होता है | इसके फल में प्रोटीन,वसा,कार्बोहायड्रेट,खनिज,कैल्शियम,फॉस्फोरस,कैरोटीन ,विटामिन A ,B एवं C,पेक्टिन,सिट्रिक अम्ल एवं मैलिक अम्ल पाया जाता है |आज हम आपको शहतूत के औषधीय गुणों से अवगत कराएंगे -

१- शहतूत के पत्तों का काढ़ा बनाकर गरारे करने से गले के दर्द में आराम होता है ।

२- यदि मुँह में छाले हों तो शहतूत के पत्ते चबाने से लाभ होता है |

३- शहतूत के फलों का सेवन करने से गले की सूजन ठीक होती है |

४- पांच - दस मिली शहतूत फल स्वरस का सेवन करने से जलन,अजीर्ण,कब्ज,कृमि तथा अतिसार में अत्यंत लाभ होता है |

५- एक ग्राम शहतूत छाल के चूर्ण में शहद मिलाकर चटाने से पेट के कीड़े निकल जाते हैं |

६- शहतूत के बीजों को पीस कर लगाने से पैरों की बिवाईयों में लाभ होता है |

७- शहतूत के पत्तों को पीसकर लेप करने से त्वचा की बीमारियों में लाभ होता है|
८- सूखे हुए शहतूत के फलों को पीसकर आटे में मिलाकर उसकी रोटी बनाकर खाने से शरीर पुष्ट होता है

हींग (ASAFOETIDA )-


Photo: हींग (ASAFOETIDA )-
                                            हींग का उपयोग आमतौर पर दाल-सब्जी में छौंक लगाने के लिए किया  जाता है इसलिए इसे 'बघारनी 'के  नाम से भी  जाना जाता है । यह भारत के उत्तर पश्चिमी राज्यों से कश्मीर एवं पंजाब में पायी जाती है | हींग आहार में रूचि उत्पन्न करके अग्नि को प्रदीप्त करती है | 
                         हींग फेरूला फोइटिस नामक पौधे का चिकना रस है | इसके पौधे के पत्तों और छाल में हलकी चोट देने से दूध निकलता है और वही दूध पेड़ पर सूख कर गोंद बनता है,उसे निकालकर सुखा लिया जाता है,जिसे बाद में हींग के नाम से जाना जाता है | 
                         हींग एक गुणकारी औषधि है | यह हलकी,गर्म और पाचक है | आईये जानते हैं हींग के औषधीय गुणों के विषय में -

१- हींग को पानी में पीसकर पेट पर (नाभी के आसपास) लेप करने से उलटी बंद हो जाती है और पेट दर्द में भी आराम मिलता है | 

२- हिंगाष्टक चूर्ण ६ ग्राम को पानी के साथ खाने से हर प्रकार की वायु की बीमारियां मिट जाती हैं | 

३- शुद्ध हींग को चम्मच भर पानी में गर्म करके रुई भिगोकर दर्द वाले दांत के नीचे रखें | ऐसा करने से दांत के दर्द में आराम मिलता है | 

४- कालीखांसी में  बच्चों के सीने पर हींग का लेप करने से लाभ मिलता है | 

५- यदि पेट में गैस बन रही हो तो हींग,काला नमक और भुनी हुई अजवायन को पीस कर चूर्ण  बना लें | इसे दिन में दो बार गुनगुने पानी से लें ,गैस में लाभ होगा | 

६- हींग को तिल के तेल में पकाकर उस तेल की बूँदें कान में डालने से तेज कान का दर्द दूर होता है | 

७- अचार की सुरक्षा के लिए बर्तन में पहले हींग का धुंआ दें | उसके बाद उसमे अचार भरें | इस प्रयोग से अचार  खराब नहीं होता है |
#watchAasthaChannel5amTo8am
हींग (ASAFOETIDA )-
हींग का उपयोग आमतौर पर दाल-सब्जी में छौंक लगाने के लिए किया जाता है इसलिए इसे 'बघारनी 'के नाम से भी जाना जाता है । यह भारत के उत्तर पश्चिमी राज्यों से कश्मीर एवं पंजाब में पायी जाती है | हींग आहार में रूचि उत्पन्न करके अग्नि को प्रदीप्त करती है |
हींग फेरूला फोइटिस नामक पौधे का चिकना रस है | इसके पौधे के पत्तों और छाल में हलकी चोट देने से दूध निकलता है और वही दूध पेड़ पर सूख कर गोंद बन...ता है,उसे निकालकर सुखा लिया जाता है,जिसे बाद में हींग के नाम से जाना जाता है |
हींग एक गुणकारी औषधि है | यह हलकी,गर्म और पाचक है | आईये जानते हैं हींग के औषधीय गुणों के विषय में -

१- हींग को पानी में पीसकर पेट पर (नाभी के आसपास) लेप करने से उलटी बंद हो जाती है और पेट दर्द में भी आराम मिलता है |

२- हिंगाष्टक चूर्ण ६ ग्राम को पानी के साथ खाने से हर प्रकार की वायु की बीमारियां मिट जाती हैं |

३- शुद्ध हींग को चम्मच भर पानी में गर्म करके रुई भिगोकर दर्द वाले दांत के नीचे रखें | ऐसा करने से दांत के दर्द में आराम मिलता है |

४- कालीखांसी में बच्चों के सीने पर हींग का लेप करने से लाभ मिलता है |

५- यदि पेट में गैस बन रही हो तो हींग,काला नमक और भुनी हुई अजवायन को पीस कर चूर्ण बना लें | इसे दिन में दो बार गुनगुने पानी से लें ,गैस में लाभ होगा |

६- हींग को तिल के तेल में पकाकर उस तेल की बूँदें कान में डालने से तेज कान का दर्द दूर होता है |

७- अचार की सुरक्षा के लिए बर्तन में पहले हींग का धुंआ दें | उसके बाद उसमे अचार भरें | इस प्रयोग से अचार खराब नहीं होता है |

भृंगराज (भांगरा)-

Photo: भृंगराज (भांगरा)-
                            घने मुलायम काले केशों के लिए प्रसिद्ध भृंगराज के स्वयंजात शाक १८०० मीटर की ऊंचाई तक आर्द्रभूमि में जलाशयों के समीप बारह मास उगते हैं |सुश्रुत एवं चरक संहिता में कास एवं श्वास व्याधि में भृंगराज तेल का प्रयोग बताया गया है | इसके पत्तों को मसलने से कृष्णाभ, हरितवर्णी रस निकलता है, जो शीघ्र ही काला पड़ जाता है | इसके पुष्प श्वेत वर्ण के होते हैं | इसके फल कृष्ण वर्ण के होते हैं | इसके बीज अनेक, छोटे तथा काले जीरे के समान होते हैं| इसका पुष्पकाल एवं फलकाल अगस्त से जनवरी तक होता है | आज हम आपको भृंगराज के आयुर्वेदिक गुणों से अवगत कराएंगे -

१- भांगरे का रस और बकरी का दूध समान मात्रा में लेकर उसको गुनगुना करके नाक में टपकाने से और भांगरा के रस में काली मिर्च का चूर्ण मिलाकर सिर पर लेप करने से आधासीसी के दर्द में लाभ होता है | 

२- जिनके बाल टूटते हैं या दो मुंह के हो जाते हैं उन्हें सिर में भांगरा के पत्तों के रस की मालिश करनी चाहिए | इससे कुछ ही दिनों में अच्छे काले बाल निकलते हैं | 

३- भृंगराज के पत्तों को छाया में सुखाकर पीस लें | इसमें से १० ग्राम चूर्ण लेकर उसमें शहद ३ ग्राम और गाय का घी ३ ग्राम मिलाकर नित्य सोते समय रात्रि में चालीस दिन सेवन करने से कमजोर दृष्टी आदि सब प्रकार के नेत्र रोगों में लाभ होता है |

४- दो-दो चम्मच भृंगराज स्वरस को दिन में २-३ बार पिलाने से बुखार में लाभ होता है | 

५- दस ग्राम भृंगराज के पत्तों में ३ ग्राम काला नमक मिलाकर  पीसकर छान लें | इसका दिन में ३-४ बार सेवन करने से पुराना पेट दर्द भी ठीक हो जाता है |

६- भांगरा के पत्ते ५० ग्राम और काली मिर्च ५ ग्राम दोनों को खूब महीन पीसकर छोटे बेर जैसी गोलियां बनाकर छाया में सुखा लें| सुबह -शाम १ या २ गोली पानी के साथ सेवन करने से बादी  बवासीर में शीघ्र लाभ होता है |

७- दो चम्मच  भांगरा पत्र स्वरस में १ चम्मच शहद मिलाकर दिन में दो बार सेवन करने से उच्च रक्तचाप कुछ ही दिनों में सामान्य हो जाता है |  

८- यदि बच्चा मिट्टी खाना किसी भी प्रकार से न छोड़ रहा हो तो भांगरा के पत्तों के रस १ चम्मच सुबह शाम पिला देने से मिट्टी खाना तुरंत छोड़ देता है |#watchAasthaChannel5amTo8am

भृंगराज (भांगरा)-
घने मुलायम काले केशों के लिए प्रसिद्ध भृंगराज के स्वयंजात शाक १८०० मीटर की ऊंचाई तक आर्द्रभूमि में जलाशयों के समीप बारह मास उगते हैं |सुश्रुत एवं चरक संहिता में कास एवं श्वास व्याधि में भृंगराज तेल का प्रयोग बताया गया है | इसके पत्तों को मसलने से कृष्णाभ, हरितवर्णी रस निकलता है, जो शीघ्र ही काला पड़ जाता है | इसके पुष्प श्वेत वर्ण के होते हैं | इसके फल कृष्ण वर्ण के होते हैं | इसके बीज अनेक, छोटे तथा काले जीरे के समान होते हैं| इसक...ा पुष्पकाल एवं फलकाल अगस्त से जनवरी तक होता है | आज हम आपको भृंगराज के आयुर्वेदिक गुणों से अवगत कराएंगे -

१- भांगरे का रस और बकरी का दूध समान मात्रा में लेकर उसको गुनगुना करके नाक में टपकाने से और भांगरा के रस में काली मिर्च का चूर्ण मिलाकर सिर पर लेप करने से आधासीसी के दर्द में लाभ होता है |

२- जिनके बाल टूटते हैं या दो मुंह के हो जाते हैं उन्हें सिर में भांगरा के पत्तों के रस की मालिश करनी चाहिए | इससे कुछ ही दिनों में अच्छे काले बाल निकलते हैं |

३- भृंगराज के पत्तों को छाया में सुखाकर पीस लें | इसमें से १० ग्राम चूर्ण लेकर उसमें शहद ३ ग्राम और गाय का घी ३ ग्राम मिलाकर नित्य सोते समय रात्रि में चालीस दिन सेवन करने से कमजोर दृष्टी आदि सब प्रकार के नेत्र रोगों में लाभ होता है |

४- दो-दो चम्मच भृंगराज स्वरस को दिन में २-३ बार पिलाने से बुखार में लाभ होता है |

५- दस ग्राम भृंगराज के पत्तों में ३ ग्राम काला नमक मिलाकर पीसकर छान लें | इसका दिन में ३-४ बार सेवन करने से पुराना पेट दर्द भी ठीक हो जाता है |

६- भांगरा के पत्ते ५० ग्राम और काली मिर्च ५ ग्राम दोनों को खूब महीन पीसकर छोटे बेर जैसी गोलियां बनाकर छाया में सुखा लें| सुबह -शाम १ या २ गोली पानी के साथ सेवन करने से बादी बवासीर में शीघ्र लाभ होता है |

७- दो चम्मच भांगरा पत्र स्वरस में १ चम्मच शहद मिलाकर दिन में दो बार सेवन करने से उच्च रक्तचाप कुछ ही दिनों में सामान्य हो जाता है |

८- यदि बच्चा मिट्टी खाना किसी भी प्रकार से न छोड़ रहा हो तो भांगरा के पत्तों के रस १ चम्मच सुबह शाम पिला देने से मिट्टी खाना तुरंत छोड़ देता है

दांतों में कीड़े लगना -

Photo: दांतों में कीड़े लगना -
                                    यह एक आम समस्या है,खासतौर पर बच्चों में यह कष्ट अधिक देखने को  मिलता है | दांतों की नियमित सफाई न करने से दांतों के बीच में अन्न कण फंसे रहते हैं और इन्ही अन्न कणों के सड़ने की वजह से दांतों में कीड़े लग जाते हैं जिससे दांतों की जड़ें कमजोर हो जाती हैं | इसी कारण दांत खोखले हो जाते हैं,मसूड़े ढीले पड़ जाते हैं तथा दांत टूटकर गिरने लगते हैं | दांतों की नियमित सफाई करके इस समस्या से बचा जा सकता है | इस रोग में दांतों में तेज़ दर्द होता है और मसूड़े सूज जाते हैं | दांतों में कीड़े लगने पर कुछ घरेलू उपचारों द्वारा आराम पाया जा सकता है -

१- दालचीनी का तेल रूई में भरकर पीड़ायुक्त दांत के गढ्ढे में रखकर दबा लें | इससे दांत के कीड़े नष्ट होते हैं और दर्द में शांति मिलती है | 

२- फिटकरी गर्म पानी में घोलकर प्रतिदिन कुल्ला करने से दांतों के कीड़े और बदबू ख़त्म हो जाती है | 

३- कीड़े युक्त या सड़े हुए दांतों में बरगद (बड़) का दूध लगाने से कीड़े और पीड़ा दूर होती है |

४- हींग को थोड़ा गर्म करके कीड़े लगे दांतों के नीचे दबाकर रखने से दांत व मसूड़ों के कीड़े मर जाते हैं | 

५- पिसी हुई हल्दी और नमक को सरसों के तेल में मिला लें | इसे प्रतिदिन २-४ बार दांतों पर मंजन की तरह मलने से दांतों के कीड़े मर जाते हैं | 

६- कीड़े लगे दांतों के खोखले भाग में लौंग का तेल रुई में भिगोकर रखने से भी दांत के कीड़े नष्ट होते हैं | 

७- दांत में कीड़े लगने से दांत खोखले हो जाते हैं तथा जगह-जगह गढ्ढे बन जाते हैं | फिटकरी,सेंधानमक,तथा नौसादर बराबर मात्रा में लेकर बारीक पाउडर बना लें | इसे प्रतिदिन सुबह-शाम दांत व मसूड़ों पर मलने से दांतों के सभी रोग ठीक होते हैं |  #watchAasthaChannel5amTo8am

दांतों में कीड़े लगना -
यह एक आम समस्या है,खासतौर पर बच्चों में यह कष्ट अधिक देखने को मिलता है | दांतों की नियमित सफाई न करने से दांतों के बीच में अन्न कण फंसे रहते हैं और इन्ही अन्न कणों के सड़ने की वजह से दांतों में कीड़े लग जाते हैं जिससे दांतों की जड़ें कमजोर हो जाती हैं | इसी कारण दांत खोखले हो जाते हैं,मसूड़े ढीले पड़ जाते हैं तथा दांत टूटकर गिरने लगते हैं | दांतों की नियमित सफाई करके इस समस्या से बचा जा सकता है | इस रोग में दांतों में तेज़... दर्द होता है और मसूड़े सूज जाते हैं | दांतों में कीड़े लगने पर कुछ घरेलू उपचारों द्वारा आराम पाया जा सकता है -

१- दालचीनी का तेल रूई में भरकर पीड़ायुक्त दांत के गढ्ढे में रखकर दबा लें | इससे दांत के कीड़े नष्ट होते हैं और दर्द में शांति मिलती है |

२- फिटकरी गर्म पानी में घोलकर प्रतिदिन कुल्ला करने से दांतों के कीड़े और बदबू ख़त्म हो जाती है |

३- कीड़े युक्त या सड़े हुए दांतों में बरगद (बड़) का दूध लगाने से कीड़े और पीड़ा दूर होती है |

४- हींग को थोड़ा गर्म करके कीड़े लगे दांतों के नीचे दबाकर रखने से दांत व मसूड़ों के कीड़े मर जाते हैं |

५- पिसी हुई हल्दी और नमक को सरसों के तेल में मिला लें | इसे प्रतिदिन २-४ बार दांतों पर मंजन की तरह मलने से दांतों के कीड़े मर जाते हैं |

६- कीड़े लगे दांतों के खोखले भाग में लौंग का तेल रुई में भिगोकर रखने से भी दांत के कीड़े नष्ट होते हैं |

७- दांत में कीड़े लगने से दांत खोखले हो जाते हैं तथा जगह-जगह गढ्ढे बन जाते हैं | फिटकरी,सेंधानमक,तथा नौसादर बराबर मात्रा में लेकर बारीक पाउडर बना लें | इसे प्रतिदिन सुबह-शाम दांत व मसूड़ों पर मलने से दांतों के सभी रोग ठीक होते हैं |

दूब या 'दुर्वा' (वैज्ञानिक नाम- 'साइनोडान डेक्टीलान")

Photo: दूब घास (दुर्वा) --------------

**********************************************
दूब या 'दुर्वा' (वैज्ञानिक नाम- 'साइनोडान डेक्टीलान") वर्ष भर पाई जाने वाली घास है, जो ज़मीन पर पसरते हुए या फैलते हुए बढती है। हिन्दू धर्म में इस घास को बहुत ही महत्त्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। हिन्दू संस्कारों एवं कर्मकाण्डों में इसका उपयोग बहुत किया जाता है। इसके नए पौधे बीजों तथा भूमीगत तनों से पैदा होते हैं। वर्षा काल में दूब घास अधिक वृद्धि करती है तथा वर्ष में दो बार सितम्बर-अक्टूबर और फ़रवरी-मार्च में इसमें फूल आते है। दूब सम्पूर्ण भारत में पाई जाती है। यह घास औषधि के रूप में विशेष तौर पर प्रयोग की जाती है।

महाकवि तुलसीदास ने दूब को अपनी लेखनी से इस प्रकार सम्मान दिया है-
"रामं दुर्वादल श्यामं, पद्माक्षं पीतवाससा।"

प्रायः जो वस्तु स्वास्थ्य के लिए हितकर सिद्ध होती थी, उसे हमारे पूर्वजों ने धर्म के साथ जोड़कर उसका महत्व और भी बढ़ा दिया। दूब भी ऐसी ही वस्तु है। यह सारे देश में बहुतायत के साथ हर मौसम में उपलब्ध रहती है। दूब का पौधा एक बार जहाँ जम जाता है, वहाँ से इसे नष्ट करना बड़ा मुश्किल होता है। इसकी जड़ें बहुत ही गहरी पनपती हैं। दूब की जड़ों में हवा तथा भूमि से नमी खींचने की क्षमता बहुत अधिक होती है, यही कारण है कि चाहे जितनी सर्दी पड़ती रहे या जेठ की तपती दुपहरी हो, इन सबका दूब पर असर नहीं होता और यह अक्षुण्ण बनी रहती है।
           दूब को संस्कृत में 'दूर्वा', 'अमृता', 'अनंता', 'गौरी', 'महौषधि', 'शतपर्वा', 'भार्गवी' इत्यादि नामों से जानते हैं। दूब घास पर उषा काल में जमी हुई ओस की बूँदें मोतियों-सी चमकती प्रतीत होती हैं। ब्रह्म मुहूर्त में हरी-हरी ओस से परिपूर्ण दूब पर भ्रमण करने का अपना निराला ही आनंद होता है। पशुओं के लिए ही नहीं अपितु मनुष्यों के लिए भी पूर्ण पौष्टिक आहार है दूब। महाराणा प्रताप ने वनों में भटकते हुए जिस घास की रोटियाँ खाई थीं, वह भी दूब से ही निर्मित थी|अर्वाचीन विश्लेषकों ने भी परीक्षणों के उपरांत यह सिद्ध किया है कि दूब में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट पर्याप्त मात्रा में मिलते हैं। दूब के पौधे की जड़ें, तना, पत्तियाँ इन सभी का चिकित्सा क्षेत्र में भी अपना विशिष्ट महत्व है। आयुर्वेद में दूब में उपस्थित अनेक औषधीय गुणों के कारण दूब को 'महौषधि' में कहा गया है। आयुर्वेदाचार्यों के अनुसार दूब का स्वाद कसैला-मीठा होता है। विभिन्न पैत्तिक एवं कफज विकारों के शमन में दूब का निरापद प्रयोग किया जाता है। दूब के कुछ औषधीय गुण निम्नलिखित हैं-

1- संथाल जाति के लोग दूब को पीसकर फटी हुई बिवाइयों पर इसका लेप करके लाभ प्राप्त करते हैं।
2 -इस पर सुबह के समय नंगे पैर चलने से नेत्र ज्योति बढती है और अनेक विकार शांत हो जाते है।
3- दूब घास शीतल और पित्त को शांत करने वाली है।
4- दूब घास के रस को हरा रक्त कहा जाता है, इसे पीने से एनीमिया ठीक हो जाता है।
5- नकसीर में इसका रस नाक में डालने से लाभ होता है।
6- इस घास के काढ़े से कुल्ला करने से मुँह के छाले मिट जाते है।
7- दूब का रस पीने से पित्त जन्य वमन ठीक हो जाता है।
8- इस घास से प्राप्त रस दस्त में लाभकारी है।
9- यह रक्त स्त्राव, गर्भपात को रोकती है और गर्भाशय और गर्भ को शक्ति प्रदान करती है।
10- दूब को पीस कर दही में मिलाकर लेने से बवासीर में लाभ होता है।
11- इसके रस को तेल में पका कर लगाने से दाद, खुजली मिट जाती है।
12- दूब के रस में अतीस के चूर्ण को मिलाकर दिन में दो-तीन बार चटाने से मलेरिया में लाभ होता है।
13- इसके रस में बारीक पिसा नाग केशर और छोटी इलायची मिलाकर सूर्योदय के पहले छोटे बच्चों को नस्य दिलाने से वे तंदुरुस्त होते है।  #watchAasthaChannel5amTo8am
दूब या 'दुर्वा' (वैज्ञानिक नाम- 'साइनोडान डेक्टीलान") वर्ष भर पाई जाने वाली घास है, जो ज़मीन पर पसरते हुए या फैलते हुए बढती है। हिन्दू धर्म में इस घास को बहुत ह...ी महत्त्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। हिन्दू संस्कारों एवं कर्मकाण्डों में इसका उपयोग बहुत किया जाता है। इसके नए पौधे बीजों तथा भूमीगत तनों से पैदा होते हैं। वर्षा काल में दूब घास अधिक वृद्धि करती है तथा वर्ष में दो बार सितम्बर-अक्टूबर और फ़रवरी-मार्च में इसमें फूल आते है। दूब सम्पूर्ण भारत में पाई जाती है। यह घास औषधि के रूप में विशेष तौर पर प्रयोग की जाती है।

महाकवि तुलसीदास ने दूब को अपनी लेखनी से इस प्रकार सम्मान दिया है-
"रामं दुर्वादल श्यामं, पद्माक्षं पीतवाससा।"

प्रायः जो वस्तु स्वास्थ्य के लिए हितकर सिद्ध होती थी, उसे हमारे पूर्वजों ने धर्म के साथ जोड़कर उसका महत्व और भी बढ़ा दिया। दूब भी ऐसी ही वस्तु है। यह सारे देश में बहुतायत के साथ हर मौसम में उपलब्ध रहती है। दूब का पौधा एक बार जहाँ जम जाता है, वहाँ से इसे नष्ट करना बड़ा मुश्किल होता है। इसकी जड़ें बहुत ही गहरी पनपती हैं। दूब की जड़ों में हवा तथा भूमि से नमी खींचने की क्षमता बहुत अधिक होती है, यही कारण है कि चाहे जितनी सर्दी पड़ती रहे या जेठ की तपती दुपहरी हो, इन सबका दूब पर असर नहीं होता और यह अक्षुण्ण बनी रहती है।
दूब को संस्कृत में 'दूर्वा', 'अमृता', 'अनंता', 'गौरी', 'महौषधि', 'शतपर्वा', 'भार्गवी' इत्यादि नामों से जानते हैं। दूब घास पर उषा काल में जमी हुई ओस की बूँदें मोतियों-सी चमकती प्रतीत होती हैं। ब्रह्म मुहूर्त में हरी-हरी ओस से परिपूर्ण दूब पर भ्रमण करने का अपना निराला ही आनंद होता है। पशुओं के लिए ही नहीं अपितु मनुष्यों के लिए भी पूर्ण पौष्टिक आहार है दूब। महाराणा प्रताप ने वनों में भटकते हुए जिस घास की रोटियाँ खाई थीं, वह भी दूब से ही निर्मित थी|अर्वाचीन विश्लेषकों ने भी परीक्षणों के उपरांत यह सिद्ध किया है कि दूब में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट पर्याप्त मात्रा में मिलते हैं। दूब के पौधे की जड़ें, तना, पत्तियाँ इन सभी का चिकित्सा क्षेत्र में भी अपना विशिष्ट महत्व है। आयुर्वेद में दूब में उपस्थित अनेक औषधीय गुणों के कारण दूब को 'महौषधि' में कहा गया है। आयुर्वेदाचार्यों के अनुसार दूब का स्वाद कसैला-मीठा होता है। विभिन्न पैत्तिक एवं कफज विकारों के शमन में दूब का निरापद प्रयोग किया जाता है। दूब के कुछ औषधीय गुण निम्नलिखित हैं-

1- संथाल जाति के लोग दूब को पीसकर फटी हुई बिवाइयों पर इसका लेप करके लाभ प्राप्त करते हैं।
2 -इस पर सुबह के समय नंगे पैर चलने से नेत्र ज्योति बढती है और अनेक विकार शांत हो जाते है।
3- दूब घास शीतल और पित्त को शांत करने वाली है।
4- दूब घास के रस को हरा रक्त कहा जाता है, इसे पीने से एनीमिया ठीक हो जाता है।
5- नकसीर में इसका रस नाक में डालने से लाभ होता है।
6- इस घास के काढ़े से कुल्ला करने से मुँह के छाले मिट जाते है।
7- दूब का रस पीने से पित्त जन्य वमन ठीक हो जाता है।
8- इस घास से प्राप्त रस दस्त में लाभकारी है।
9- यह रक्त स्त्राव, गर्भपात को रोकती है और गर्भाशय और गर्भ को शक्ति प्रदान करती है।
10- दूब को पीस कर दही में मिलाकर लेने से बवासीर में लाभ होता है।
11- इसके रस को तेल में पका कर लगाने से दाद, खुजली मिट जाती है।
12- दूब के रस में अतीस के चूर्ण को मिलाकर दिन में दो-तीन बार चटाने से मलेरिया में लाभ होता है।
13- इसके रस में बारीक पिसा नाग केशर और छोटी इलायची मिलाकर सूर्योदय के पहले छोटे बच्चों को नस्य दिलाने से वे तंदुरुस्त होते 
है।

रिफाइंड तेल खाएं – बीमारियों को बुलाएँ


रिफाइंड तेल खाएं – बीमारियों को बुलाएँ
=====================
आज से 50 साल पहले तो कोई रिफाइंड तेल के बारे में जानता नहीं था, ये पिछले 20 -25 वर्षों से हमारे देश में आया है | कुछ विदेशी कंपनियों और भारतीय कंपनियाँ इस धंधे में लगी हुई हैं | इन्होने चक्कर चलाया और टेलीविजन के माध्यम से जम कर प्रचार किया लेकिन लोगों ने माना नहीं इनकी बात को, तब इन्होने डॉक्टरों के माध्यम से कहलवाना शुरू किया | डॉक्टरो...ं ने अपने प्रेस्क्रिप्शन में रिफाइन तेल लिखना शुरू किया कि तेल खाना तो सफोला का खाना या सनफ्लावर का खाना, ये नहीं कहते कि घानी से निकला हुआ शुद्ध सरसों का तेल खाओ, तिल का खाओ या मूंगफली का खाओ, आप सब समझदार हैं समझ सकते हैं |

ये रिफाइन तेल बनता कैसे हैं? किसी भी तेल को रिफाइन करने में 6 से 7 केमिकल का प्रयोग किया जाता है और डबल रिफाइन करने में ये संख्या 12 -13 हो जाती है | ये सब केमिकल मनुष्य के द्वारा बनाये हुए हैं प्रयोगशाला में, भगवान का बनाया हुआ एक भी केमिकल इस्तेमाल नहीं होता, भगवान का बनाया मतलब प्रकृति का दिया हुआ जिसे हम आर्गेनिक कहते हैं | तेल को साफ़ करने के लिए जितने केमिकल इस्तेमाल किये जाते हैं सब Inorganic हैं और Inorganic केमिकल ही दुनिया में जहर बनाते हैं और उनका combination जहर के तरफ ही ले जाता है | इसलिए रिफाइन तेल, डबल रिफाइन तेल गलती से भी न खाएं | फिर आप कहेंगे कि, क्या खाएं ? तो आप शुद्ध तेल खाइए, तिल का, सरसों का, मूंगफली का, तीसी का, या नारियल का | अब आप कहेंगे कि शुद्ध तेल में बास बहुत आती है और दूसरा कि शुद्ध तेल बहुत चिपचिपा होता है | रिसर्च से पता चला कि तेल का चिपचिपापन उसका सबसे महत्वपूर्ण घटक है | तेल में से जैसे ही चिपचिपापन निकाला जाता है तो पता चला कि ये तो तेल ही नहीं रहा, तेल में जो बास आ रही है वो उसका प्रोटीन कंटेंट है, शुद्ध तेल में प्रोटीन बहुत है, दालों में ईश्वर का दिया हुआ प्रोटीन सबसे ज्यादा है, दालों के बाद जो सबसे ज्यादा प्रोटीन है वो तेलों में ही है, तो तेलों में जो बास आप पाते हैं वो उसका Organic content है प्रोटीन के लिए | 4 -5 तरह के प्रोटीन हैं सभी तेलों में, आप जैसे ही तेल की बास निकालेंगे उसका प्रोटीन वाला घटक गायब हो जाता है और चिपचिपापन निकाल दिया तो उसका Fatty Acid गायब | अब ये दोनों ही चीजें निकल गयी तो वो तेल नहीं पानी है, जहर मिला हुआ पानी | और ऐसे रिफाइन तेल के खाने से कई प्रकार की बीमारियाँ होती हैं, घुटने दुखना, कमर दुखना, हड्डियों में दर्द, ये तो छोटी बीमारियाँ हैं, सबसे खतरनाक बीमारी है, हृदयघात (Heart Attack), पैरालिसिस, ब्रेन का डैमेज हो जाना, आदि, आदि | जिन-जिन घरों में पूरे मनोयोग से रिफाइन तेल खाया जाता है उन्ही घरों में ये समस्या आप पाएंगे, जिनके यहाँ रिफाइन तेल इस्तेमाल हो रहा है उन्ही के यहाँ Heart Blockage और Heart Attack की समस्याएं हो रही है |

जब सफोला का तेल लेबोरेटरी में टेस्ट किया, सूरजमुखी का तेल, अलग-अलग ब्रांड का टेस्ट किया तो AIIMS के भी कई डोक्टरों की रूचि इसमें पैदा हुई तो उन्होंने भी इस पर काम किया और उन डॉक्टरों ने बताया “तेल में से जैसे ही आप चिपचिपापन निकालेंगे, बास को निकालेंगे तो वो तेल ही नहीं रहता, तेल के सारे महत्वपूर्ण घटक निकल जाते हैं और डबल रिफाइन में कुछ भी नहीं रहता, वो छूँछ बच जाता है, और उसी को हम खा रहे हैं तो तेल के माध्यम से जो कुछ पौष्टिकता हमें मिलनी चाहिए वो मिल नहीं रहा है |” आप बोलेंगे कि तेल के माध्यम से हमें क्या मिल रहा ? हमको शुद्ध तेल से मिलता है HDL (High Density Lipoprotein), ये तेलों से ही आता है हमारे शरीर में, वैसे तो ये लीवर में बनता है लेकिन शुद्ध तेल खाएं तब | तो आप शुद्ध तेल खाएं तो आपका HDL अच्छा रहेगा और जीवन भर ह्रदय रोगों की सम्भावना से आप दूर रहेंगे |


18 Scientifically Validated Reasons to End Public Water Fluoridation

http://themindunleashed.org/wp-content/uploads/2014/04/fluoridee.jpg

Many people are coming to realize that far from improving dental health, the fluoridation of municipal water and many store bought foods and drinks is actually detrimental to our overall health. What was once a widely accepted practice is now being scrutinized and condemned by many prominent physicians and free-thinkers, and the scientific evidence to support these condemnations is mounting.
Recently a Harvard medical study claimed that ingesting fluoride leads to a loss of IQ in young children, which is remarkably frightening by itself.
Now, another study has been published, taking a thorough look at the pros and cons of ingesting fluoride. Conducted by Stephen Peckham and Niyi Awofeso, and published in The Scientific World Journal, this new research paper begins with the following important introduction, which calls for an end to public water fluoridation:
Fluorine is the world’s 13th most abundant element and constitutes 0.08% of the Earth crust. It has the highest electronegativity of all elements. Fluoride is widely distributed in the environment, occurring in the air, soils, rocks, and water. Although fluoride is used industrially in a fluorine compound, the manufacture of ceramics, pesticides, aerosol propellants, refrigerants, glassware, and Teflon cookware, it is a generally unwanted byproduct of aluminium, fertilizer, and iron ore manufacture. The medicinal use of fluorides for the prevention of dental caries began in January 1945 when community water supplies in Grand Rapids, United States, were fluoridated to a level of 1 ppm as a dental caries prevention measure. However, water fluoridation remains a controversial public health measure. This paper reviews the human health effects of fluoride. The authors conclude that available evidence suggests that fluoride has a potential to cause major adverse human health problems, while having only a modest dental caries prevention effect. As part of efforts to reduce hazardous fluoride ingestion, the practice of artificial water fluoridation should be reconsidered globally, while industrial safety measures need to be tightened in order to reduce unethical discharge of fluoride compounds into the environment. Public health approaches for global dental caries reduction that do not involve systemic ingestion of fluoride are urgently needed.
Without mincing words, this new study moves right into support these assertions, offering the following indications that fluoride is not only of dubious benefit for dental health, but that it is also terrible for overall human health:
1. Fluoride is not critical for healthy teeth:
“It is widely accepted that fluoride only helps prevent dental decay by topical means—by direct action on the tooth enamel predominantly after eruption and dental plaque [1617]. However, it is important to note that while fluoride contributes to the remineralisation process in the enamel of the tooth surface this is not dependent on fluoride, and that fluoride’s anticaries effect is critically dependent on calcium and magnesium content of teeth enamel.”
2. Fluoride may actually make certain people more vulnerable to dental caries:
“Among young individuals with low calcium and magnesium in teeth enamel (usually due to undernutrition), fluoride ingestion and contact with teeth present histologically as hypo-calcification and/or hypoplasia, which may paradoxically make such individuals more vulnerable to dental caries [1819].”
3. Because of the complex nature of how dental caries develop, it is too difficult to tell if water fluoridationactually helps prevent dental caries:
“…the multiple pathways to the development of dental caries make it difficult to accurately ascertain the contribution of fluoride ingestion to dental caries prevention. Given that the action of fluoride on dental caries prevention is topical, only topical fluoride products are likely to provide optimal benefits claimed for this chemical.”
4. The history of research into ingesting fluoride as an effective means of preventing dental caries is controversial, at best:
“A survey of 55 reputable oral health specialists on the impacts of artificial water fluoridation and other preventive technologies on the decline in dental caries prevalence over the past four decades in most nations revealed that, apart from fluoridated toothpaste, there were conflicting responses on the impact of artificial water fluoridation and other fluoride-based technologies [32]. Studies focused on dental caries trends following cessation of fluoridation have produced contradictory results, in part due to study technique, availability of other fluoride sources, and consumption patterns of cariogenic foods [3334].”
5. Fluoride is classified as a pollutant and there is no such thing as a disease caused by fluoride deficiency.
6. Drinking fluoride in public water makes it impossible to administer a proper dose, causing a rise in toxic dental fluorosis:
“One of the key concerns about water fluoridation is the inability to control an individual’s dose of ingested fluoride which brings into question the concept of the “optimal dose.” Since the 1980s numerous studies have identified that adults and children are exceeding these agreed limits, contributing to a rapid rise in dental fluorosis—the first sign of fluoride toxicity [3537].”
7. Mass contamination of drinking water with fluoride is toxic for children:
“In 1991, the Centers for Disease Control (CDC) in the USA measured fluoride levels and found that where water is fluoridated between 0.7 and 1.2 ppm overall fluoride, total fluoride intake for adults was between 1.58 and 6.6 mg per day while for children it was between 0.9 and 3.6 mg per day and that there was at least a sixfold variation just from water consumption alone [38].
The inability to control individual dose renders the notion of an “optimum concentration” obsolete. In the USA, a study in Iowa found that 90% of 3-month-olds consumed over their recommended upper limits, with some babies ingesting over 6 mg of fluoride daily, above what the Environmental Protection Agency and the WHO say is safe to avoid crippling skeletal fluorosis [41].
8. Fluoride may increase the risk of dental caries for malnurished children:
“Fluoride exposure has a complex relationship in relation to dental caries and may increase dental caries risk in malnourished children due to calcium depletion and enamel hypoplasia, while offering modest caries prevention in otherwise well-nourished children.”
9. Water fluoridation effects the cognitive development of children:
“In a meta-analysis of 27 mostly China-based studies on fluoride and neurotoxicity, researchers from Harvard School of Public Health and China Medical University in Shenyang found strong indications that fluoride may adversely affect cognitive development in children [50].”
10. Water fluoridation may cause hypothyroidism in children:
“In a 2005 study, it was found that 47% of children living in a New Delhi neighbourhood with average water fluoride level of 4.37 ppm have evidence of clinical hypothyroidism attributable to fluoride.”
11. Fluoride consumption may actually cause bone disease:
“In some cases—where fluoride levels are very high or where there is prolonged ingestion at 2 ppm or higher, cases of skeletal fluorosis have been reported. Skeletal fluorosis is a chronic metabolic bone disease caused by ingestion or inhalation of large amounts of fluoride.”
12. As an enzyme disruptor, fluoride interferes with the body’s normal functioning in many complex ways:
“Fluoride is a known enzyme disruptor. For example, fluoride’s anticaries effect is derived in part from its ability to derange the enzymes of cariogenic bacteria [2021]. Fluoride can interfere by attaching itself to metal ions located at an enzyme’s active site or by forming competing hydrogen bonds at the active site which is not exclusively just on the teeth [64]. There are 66 enzymes which are affected by fluoride ingestion, including P450 oxidases, as well the enzyme which facilitates the formation of flexible enamel [65].”
13. “Chronic fluoride ingestion is commonly associated with hyperkalaemia and consequent ventricular fibrillation [70].”
14. Fluoride ingestion has been linked to cancer, although it has not yet been proven to directly cause cancer:
“There have also been a number of studies that link fluoride and cancer. More than 50 population-based studies which have examined the potential link between water fluoride levels and cancer have been reported in the medical literature. Most of these studies have not found a strong link between chronic fluoride ingestion and cancer.
However, population-based-studies strongly suggest that chronic fluoride ingestion is a possible cause of uterine cancer and bladder cancer; there may be a link with osteosarcoma—highlighted as an area where there is evidence of problems requiring further research [307274].”
15. Ethically speaking, mass water fluoridation is medication without consent:
“…community water fluoridation provides policy makers with important questions about medication without consent, the removal of individual choice and whether public water supplies are an appropriate delivery mechanism [7576]. “
16. The human body does not need fluoride to be healthy:
“One of the early controversies following the completion of the post-1945 Grand Rapids trial of water fluoridation was how fluoride ingested by humans should be classified—a nutrient, medication, or pollutant. Despite numerous studies, the essentiality of fluoride as a trace element or nutrient has not been proven and it is now widely accepted that fluoride is not essential element for human physiology [3078].
In an extensive review of fluoride and human health published in 2011, the European Commission’s Scientific Committee on Health and Environmental Risks concluded that fluoride is not essential for human growth and development [30].”
17. Although promoted as a medicine for tooth decay, fluoride is not regulated or controlled as a medicine:
“Although fluoride, used in artificial water fluoridation, is promoted as a medicine for preventing tooth decay, it is not subject to the strict guidelines of medicines statutes in the nations that implement artificial water fluoridation. The practice of water fluoridation is recommended as a means of preventing dental caries. Despite this very clear definition of purpose, no fluoridating country defines fluoridation of water supplies as a medicine.”
18. There are better alternatives to preventing cavities than fluoridation:
“The polarised debate on the role of ingested fluoride in dental health ignores the basic problem that dental caries is essentially the outcome of bacterial infection of teeth enamel. While it might have been excusable in the 1950s to utilise an enzyme poison such as fluoride to undesirably alter dental architecture and to kill cariogenic bacteria, a better understanding of the pathogenesis of dental caries, coupled with development of antibiotics and probiotics with strong anticariogenic effects, diminishes any major future role for fluoride in caries prevention.”

CONCLUSION

Community water fluoridation is actually not the global norm:
“Currently, only about 5% of the world’s population—350 million people—(including 200 million Americans) consume artificially fluoridated water globally. Only eight countries—Malaysia, Australia, USA, New Zealand, Singapore, and Ireland, more than 50% of the water supply artificially fluoridate. Over the past two decades many communities in Canada, the USA, Australia, and New Zealand have stopped fluoridating their water supplies and in Israel the Minister for Health announced in April 2013 the end of mandatory water fluoridation.”
Fluoride has become so controversial in America that many citizen formed groups are actively, and effectively, petitioning local governments to stop the community fluoridation of municipal water. Couple this with the fact that many product manufacturers are giving consumers options for avoiding fluoride in commonly used products, such as toothpaste and mouthwash.
If your city goverment hasn’t yet seen the light and eliminated this poison, do yourself and your family a favor and switch to using filtered water in your home. Berkey makes an excellent filter that when couple with the fluoride units, makes it easy to avoid fluoridated drinking and cooking water. You can also get a shower head filter that prevents you from absorbing fluoridated water through your skin each time you shower.
The science is in, fluoride is dangerous to your health. Please be advised, and share this news with your friends and family.
Sources:
- Stephen Peckham and Niyi Awofeso, “Water Fluoridation: A Critical Review of the Physiological Effects of Ingested Fluoride as a Public Health Intervention,” The Scientific World Journal, vol. 2014, Article ID 293019, 10 pages, 2014. doi:10.1155/2014/293019  - http://www.hindawi.com/journals/tswj/2014/293019/
Disclaimer: This article is not intended to provide medical advice, diagnosis or treatment. 

Monday, June 9, 2014

IS AMERICA HEADING FOR SELF DISASTER BY MULTINATIONAL COMPANIES-AMERICAN GREED?

http://themindunleashed.org/wp-content/uploads/2014/05/monsantoo.jpg
A new U.S. Geological Survey has concluded that pesticides can be found in, well, just about anything.
Roundup herbicide, Monsanto’s flagship weed killer, was present in 75 percent of air and rainfall test samples, according to the study, which focused on Mississippi’s highly fertile Delta agricultural region. GreenMedInfo reports new research, soon to be published by Environmental Toxicology and Chemistry journal, discovered the traces over a 12-year span from 1995-2007.
In recent years, Roundup was found to be even more toxic than it was when first approved for agricultural use, though that discovery has not led to any changes in regulation of the pesticide. Moreover, Roundup’s overuse has enabled weeds and insects to build an immunity to its harsh toxins.
To deal with the immunity issue, Monsanto’s solution has been to spray more and stronger pesticides to eliminate the problem. The health effects of Roundup are also hard to ignore as research has linked exposure to the pesticide to Parkinson’s disease and various cancers. For instance, children in Argentina, where Roundup is used in high concentrations, struggle with health problems, with 80 percent showing signs of the toxins in their bloodstreams. However, Roundup isn’t the only widespread threat to public health. The U.S. Geological Survey, along with others, have identified additional pesticides in the air and water that become more toxic as they mix and come in contact with people.
Spraying Roundup may have short-term economic benefits for Monsanto, but the potential long-term risks could present significant challenges to people in affected regions of the country. Credits: John Deike, EcoWatch